DA Image
1 मार्च, 2021|6:29|IST

अगली स्टोरी

दो हजार करोड़ से सुधरेगी पूर्वांचल के जिलों की बिजली आपूर्ति

दो हजार करोड़ से सुधरेगी पूर्वांचल के जिलों की बिजली आपूर्ति

प्रयागराज। वरिष्ठ संवाददाता

इस साल प्रयागराज, प्रतापगढ़, फतेहपुर समेत पूर्वांचल के जिलों में बिजली सुधार की उम्मीद है। सात जिलों में सबस्टेशन निर्माण और अतिरिक्त ट्रांसमिशन लाइन बनाने पर दो हजार करोड़ से अधिक का खर्च हो रहा है। उत्तर प्रदेश पॉवर कॉरपोरेशन सात जिलों में 132 केवी और 220 केवी के आठ नए सबस्टेशन बना रहा है। अधिकतर सबस्टेशन इसी साल चालू होने की उम्मीद है।

इनके अलावा फाल्ट या अन्य कारणों से सप्लाई बंद होने पर उत्पादन केंद्रों से बिजली आपूर्ति बहाल रखने के लिए सैकड़ों किलोमीटर हाईटेंशन लाइनें बिछाई जा रही हैं। उत्तर प्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कॉरपोरेशन लिमिटेड (पूर्वांचल डिवीजन) सभी काम कर रहा है। यूपीपीटीसीएम के मुख्य अभियंता एके जायसवाल ने बताया कि निर्माणाधीन सबस्टेशनों के चालू होने से कई जिलों का बिजली संकट दूर होगा। इसमें प्रयागराज में शहर दक्षिणी की एक तिहाई आबादी को राहत मिलेगी।

यहां बन रहे सबस्टेशन निर्माण अवधि

प्रयागराज : 132 केवी जून तक

प्रतापगढ़ :

मानधाता 132 केवी जून तक

सांगीपुर : 220 केवी मई-जून तक

वाराणसी : 400 केवी (जीआईएस) अक्तूबर तक

चंदौली : 132 केवी मई-जून तक

फतेहपुर : 220 केवी -------

सोनभद्र : 220 केवी जनवरी 2022

मिर्जापुर : 132 केवी सितंबर तक

संत रविदासनगर भदोही : 220 केवी मई 2022

बारा, रीवा रोड, मेजा के बीच एक और लाइन

बारा विद्युत उत्पादन केंद्र और 400 केवी क्षमता वाले उपकेंद्र के बीच एक वैकलिप्क हाईटेंशन लाइन बिछाई जा रही है। नई लाइन चालू होने के बाद पुरानी लाइन में फाल्ट होने पर प्रयागराज समेत प्रदेश के कई जिलों की सप्लाई चालू रहेगी।

अनपरा-उन्नाव के बीच लगाई जा रही ट्रांसमिशन लाइन

अनपरा और उन्नाव के मध्य एक और 400 किमी लंबी ट्रांसमिशन की लाइन लगाई जा रही है। इसके निर्माण 1200 करोड़ रुपए खर्च हो रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Electricity supply in districts of Purvanchal will improve by two thousand crores