DA Image
Thursday, December 9, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश प्रयागराजगरीबों की सैकड़ों बीघा जमीन हड़प गए दबंग

गरीबों की सैकड़ों बीघा जमीन हड़प गए दबंग

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजNewswrap
Tue, 19 Oct 2021 03:00 PM
गरीबों की सैकड़ों बीघा जमीन हड़प गए दबंग

किसी समय में गरीब खेतिहर मजदूरों को खरीदकर दी गई सैकड़ों बीघा जमीन पर अब भी दबंगों का कब्जा है। इसे मजदूरों को दिया भी नहीं गया, जबकि खतौनी में नाम गरीबों का दर्ज है। बताया जा रहा है कि प्रयागराज में सैकड़ों बीघा ऐसी जमीन का मामला सामने आया है। इसकी शिकायत करने पर सचिव राजस्व परिषद की ओर से जांच का आदेश कर विस्तृत रिपोर्ट मांगी गई है।

जमीन की गड़बड़ी का मामला सबसे ज्यादा प्रयागराज के यमुनापार इलाके में आया। बताया जा रहा है कि पहाड़ी क्षेत्र में तमाम जमीन बेची गई। इसे बाद में कोई देखने वाला नहीं रहा तो कब्जा कायम रहा। पूर्वांचल विकास परिषद के सदस्य अशोक चौधरी का कहना है कि यमुनापार के ही खनहैता, जिगलो और करारीपुर जैसे क्षेत्रों में 40 से 10 बीघे तक जमीन खरीदी गई। जिस पर अब तक अवैध कब्जा है। इसकी शिकायत उन्होंने की थी। जिस पर विशेष सचिव राजस्व परिषद महेंद्र सिंह ने जांच कर आख्या मांगी है। अफसरों की मानें तो प्रयागराज में सैकड़ों हेक्टेयर जमीन इस काम के लिए ली गई थी।

इन इलाकों में हुआ जमीन का क्रय

प्रयागराज के मेजा, मांडा, करछना, कोरांव में जमीन का क्रय हुआ। इसमें सबसे ज्यादा धांधली मेजा और मांडा में बताई जा रही है। यहां पर लगभग 300 बीघा जमीन कब्जे में है। वहीं गंगापार में फूलपुर और सोरांव में जमीन की खरीद की गई थी।

यह था उद्देश्य

1980 के दशक में गरीबी उन्मूलन कार्यक्रम के दौरान तमाम योजनाएं चलाई गई थीं। इसी दौरान पूल लैंड योजना भी चलाई गई, जिसके तहत कृषि योग्य भूमि समाज कल्याण विभाग ने क्रय कर गरीब मजदूरों को दी। योजना के तहत प्रयागराज में भी जमीन का क्रय विक्रय हुआ। यमुनापार के गांवों में तमाम जमीनों का क्रय हुआ, लेकिन यह जमीन जरूरतमंदों तक नहीं पहुंची। इस पर दबंगों का कब्जा है। गरीब परेशान हैं।

ऐसे हुआ कब्जा

विकास भवन के एक अफसर का कहना है कि यह मामला सामने आने के बाद यह देखा गया कि कब्जा कहां था। तमाम जगह दबंगों ने जमीन अच्छी कीमत पर बेची और जुगाड़ से नाम ट्रांसफर नहीं होने दिया। जिन्हें जमीन दी गई वो गरीब थे, आवाज नहीं उठा सके। इसके साथ ही तमाम जगह पहाड़ी जमीन बेची गई। अधिकारी ने माना कि प्रयागराज के यमुनापार में बहुत सारे मामले हैं।

ऐसी शिकायत आई है। इस पर जांच का आदेश दिया गया था। सभी एसडीएम से अपने क्षेत्रों में जांच कर पूरी रिपोर्ट मांगी गई है। विशेषकर यमुनापार क्षेत्र में अधिक शिकायत मिली है। जांच रिपोर्ट आते ही शासन को भेजी जाएगी।

भानु प्रताप यादव, सीआरओ

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें