Friday, January 21, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश प्रयागराजलेंस से वस्तु की दूरी माप सकेंगे नेत्रहीन छात्र

लेंस से वस्तु की दूरी माप सकेंगे नेत्रहीन छात्र

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजNewswrap
Fri, 03 Dec 2021 02:50 PM
लेंस से वस्तु की दूरी माप सकेंगे नेत्रहीन छात्र

भगवान ने आंखों को रोशनी नहीं दी तो क्या, ज्ञान के प्रकाश से नेत्रहीन छात्र न सिर्फ अपने जीवन में बल्कि समाज व देश में एक नई ऊर्जा का संचार कर रहे हैं। आंखें तो माध्यम होती हैं, देखता हमेशा दिमाग है। नेत्र दिव्यांगता झेल रहे छात्र अब भौतिकी विज्ञान की प्रायोगिक कक्षाओं का हिस्सा बन सकेंगे।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के जेके इंस्टीट्यूट के प्रो. आशीष खरे ने दृष्टिबाधित छात्रों की राह आसान करने के लिए हाईटेक डिवाइस ईजाद की है। इसका नाम ‘एन असिस्टिव डिवाइस फॉर विजुअली एम्पायर्ड स्टूडेंट्स टू परफार्म लैब एक्सपेरिमेंट ऑन आप्टिकल है। प्रो. आशीष खरे की ओर से विकसित डिवाइस का पेटेंट हो चुका है। प्रो. खरे ने बताया कि दृष्टिबाधित छात्रों के लिए भौतिक विषय में प्रयोगात्मक कार्य करने के लिए यह पहली डिवाइस है। फिलहाल साइंस से इंटर करने वाले दृष्टिबाधित छात्रों को भौतिकी की प्रयोगात्मक कक्षाओं और परीक्षा से छूट दी जाती है।

प्रो. खरे ने बताया कि प्रयोगात्मक कार्य के दौरान लेंस पर जब तक वस्तु की सही इमेज नहीं बनेगी तब तक बीप की आवाज धीमी-धीमी आती रहेगी। सही इमेज बनते ही कैमरा फोटो लेगा और बीप की आवाज तेज सुनाई देगी। इससे नेत्रहीन छात्र वस्तु और लेंस की दूरी माप सकेंगे। डॉ. खरे ने बताया कि जिनकरी जिंदगी में रोशनी की कमी है, उन्हें ज्ञान के उजियारे से पूरा करना ही मकसद है।

दस हजार रुपये में बनी डिवाइस

डॉ. खरे बताया कि यह मददगार डिवाइस एक साल में तैयार हुई, इसकी लागत दस हजार रुपये है। जब यह बाजार में आएगी तो तकरीबन पांच हजार रुपये में मिल सकेगी। इस प्रोजेक्ट पर डॉ. खरे के साथ बीटेक छात्र शास्वत सिंह ने भी काम किया है।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें