ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश प्रयागराजफर्जी जन्म प्रमाण पत्र मामले में आजम परिवार को राहत

फर्जी जन्म प्रमाण पत्र मामले में आजम परिवार को राहत

फर्जी जन्म प्रमाणपत्र बनाने में हुई सजा के मामले में आजम खान के परिवार को हाईकोर्ट से राहत मिल गई है। कोर्ट ने आजम खान, उनकी पत्नी तंजीम फातिमा और...

फर्जी जन्म प्रमाण पत्र  मामले में आजम परिवार को राहत
हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजSat, 25 May 2024 01:00 AM
ऐप पर पढ़ें

फर्जी जन्म प्रमाणपत्र बनाने में हुई सजा के मामले में आजम खान के परिवार को हाईकोर्ट से राहत मिल गई है। कोर्ट ने आजम खान, उनकी पत्नी तंजीम फातिमा और बेटे अब्दुल्ला आजम की जमानत मंजूर कर ली है। साथ ही आज़म ख़ान को इस मामले में दोषसिद्ध करने के आदेश को भी निलंबित कर दिया है। हांलाकि कोर्ट ने तंजीम फातिमा और अब्दुल्ला की दोषसिद्धी को बरकरार रखा है ।
आज़म ख़ान और उनकी पत्नी, बेटे को एसीजेएम एमपीएमएलए कोर्ट ने 18 अक्टूबर 2023 को सात सात वर्ष कैद और जुर्माने की सजा सुनाई थी। इस आदेश के खिलाफ अपील एडीजे एमपी एमएलए कोर्ट रामपुर ने 18 दिसंबर 2023 को खारिज कर दी। इसके खिलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट में पुनरीक्षण याचिका दाखिल की गई। याचिका पर न्यायमूर्ति संजय कुमार सिंह सुनवाई ने सुनवाई की।

आज़म ख़ान के वकील वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने इस मामले में दलील रखी। उनका कहना था कि दोनों जन्म प्रमाण पत्र वैधानिक संस्थाओं द्वारा जारी किए गए हैं। इसलिए इनको फर्जी नहीं कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि रामपुर नगर निगम से जारी जन्म प्रमाण पत्र में आजम खान और तंजीम फातिमा ने कोई हलफनामा नहीं दिया है उनके एक नजदीकी रिश्तेदार द्वारा बताई गई तिथि के आधार पर बना है। नगर निगम रामपुर से ऐसा कोई रिकॉर्ड अभियोजन उपलब्ध नहीं कर सका। जबकि याचिका के विरोध में अपर महाधिवक्ता पीसी श्रीवास्तव का कहना था कि इन्हीं फर्जी दस्तावेजों के आधार पर अब्दुल्ला आजम का पासपोर्ट बनाया गया तथा अन्य सरकारी कार्यों में भी यही जन्म प्रमाण पत्र उपयोग किए गए तथा एक सुनियोजित षड्यंत्र के तहत जालसाजी का काम किया गया।

कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद कहा कि यह मामला जघन्य अपराध का नहीं है । ट्रायल के दौरान अभियुक्तगण जमानत पर थे और उन्होंने जमानत का दुरुपयोग नहीं किया। तंजीम फातिमा की उम्र 72 वर्ष है जबकि आजम खान 74 साल के हैं। और कई पुरानी बीमारियों से पीड़ित हैं। जमानत पर रिहा किए जाने पर उनके भागने की संभावना नहीं है। तंजीम फातिमा अब तक कुल सुनाई गई 7 वर्ष की सजा में से एक साल 4 माह, आजम खान 2 साल 5 माह और अब्दुल्ला आजम खान एक साल 4 माह की सजा काट चुके हैं। कोर्ट ने इस आधार पर तीनों को जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया है।

जबकि सजा को निलंबित करने के प्रश्न पर कोर्ट ने आजम खान के प्रकरण को अन्य दोनों के मामले से अलग पाते हुए आजम खान की दोष सिद्धि को निलंबित कर दिया है। और तंजीम फातिमा तथा अब्दुल्लाह आजम की सज़ा निलंबित करने की अर्जी खारिज कर दी है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।