ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश प्रयागराजमहाकुम्भ में एआई आधारित वीडियो बताएंगे भीड़ का अनुमान

महाकुम्भ में एआई आधारित वीडियो बताएंगे भीड़ का अनुमान

महाकुम्भ 2025 में 40 करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं के आगमन का अनुमान है। ऐसे में इस दौरान भीड़ प्रबंधन बड़ी चुनौती होगी। किसी भी दुर्घटना या अनहोनी से...

महाकुम्भ 2025 में 40 करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं के आगमन का अनुमान है। ऐसे में इस दौरान भीड़ प्रबंधन बड़ी चुनौती होगी। किसी भी दुर्घटना या अनहोनी से...
1/ 2महाकुम्भ 2025 में 40 करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं के आगमन का अनुमान है। ऐसे में इस दौरान भीड़ प्रबंधन बड़ी चुनौती होगी। किसी भी दुर्घटना या अनहोनी से...
महाकुम्भ 2025 में 40 करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं के आगमन का अनुमान है। ऐसे में इस दौरान भीड़ प्रबंधन बड़ी चुनौती होगी। किसी भी दुर्घटना या अनहोनी से...
2/ 2महाकुम्भ 2025 में 40 करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं के आगमन का अनुमान है। ऐसे में इस दौरान भीड़ प्रबंधन बड़ी चुनौती होगी। किसी भी दुर्घटना या अनहोनी से...
हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजFri, 01 Mar 2024 11:30 AM
ऐप पर पढ़ें

प्रयागराज। महाकुम्भ 2025 में 40 करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं के आगमन का अनुमान है। ऐसे में इस दौरान भीड़ प्रबंधन बड़ी चुनौती होगी। किसी भी दुर्घटना या अनहोनी से आम श्रद्धालुओं को बचाने व सुरक्षित मेले के लिए अभी से प्रशासन तैयारी कर रहा है। पहली बार मेला क्षेत्र में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस बेस्ड वीडियो विश्लेषण किया जाएगा जिससे अतिरिक्त भीड़ के दबाव या संभावित भीड़ के दबाव की जानकारी मेला प्राधिकरण के आईट्रिपलसी में हो जाएगी। कंट्रोल रूम पर आई सूचना के तहत भीड़ नियंत्रण किया जाएगा। मेला क्षेत्र के कंट्रोल एंड कमांड सेंटर की क्षमता बढ़ाने के लिए अफसरों ने प्रस्ताव तैयार किया है।
आईआईटी कानपुर की टीम ने पहले इसका विश्लेषण किया था। आईआईटी कानपुर के सुझावों पर गुरुवार को मंडलायुक्त विजय विश्वास पंत की अध्यक्षता में हुई बैठक पर प्रस्ताव तैयार किया गया। त्रिवेणी सभागार में हुई बैठक में कुम्भ 2019 की तुलना में दोगुने कैमरे 2025 के महाकुम्भ मेल लगाए जाएंगे। 950 कैमरों से लगातार निगरानी होगी। इसमें 120 पार्किंग लाइट्स भी शामिल हैं। एआई बेस्ड वीडियो पर सबसे अधिक जोर दिया जाएगा, क्योंकि अत्याधिक भीड़ के समय में इस तकनीक के इस्तेमाल से प्रशासन व पुलिस पहले से तैयार होंगे। इसके लिए मेले से पहले कई चरणों में ड्राई एंड रन चलाया जाएगा जिससे जो भी कमी हो, उसे पहले ही दूर कर लिया जाए। इसके साथ ही ट्रिपलआईसी के कॉल सेंटर को 30 से बढ़ाकर 50 सीटर करने का प्रस्ताव भी तैयार किया गया है। आईट्रिपलसी व मॉडर्न कंट्रोल रूम पुलिस लाइन एमसीआर (सीसीसी) के अतिरिक्त झूंसी व अरैल क्षेत्र में भी एक-एक व्यूइंग केंद्र बनाए जाएंगे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें