DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  प्रयागराज  ›  95 कर्मचारियों ने पंचायत चुनाव के दौरान गंवाई जान
प्रयागराज

95 कर्मचारियों ने पंचायत चुनाव के दौरान गंवाई जान

हिन्दुस्तान टीम,प्रयागराजPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 04:20 PM
95 कर्मचारियों ने पंचायत चुनाव के दौरान गंवाई जान

प्रयागराज वरिष्ठ संवाददाता

जिले में पंचायत चुनाव में ड्यूटी करने वाले 95 कर्मचारियों की जान गई थी। दूसरी बार हुए आवेदन में 23 कर्मचारी बढ़ गए हैं। लगभग 25 विभागों के कार्यरत कर्मचारियों के परिजनों ने आवेदन किया है। इसमें विभागाध्यक्ष की संस्तुति मिल चुकी है। सर्वाधिक कर्मचारी शिक्षा विभाग के हैं। बेसिक शिक्षा से 39 और माध्यमिक शिक्षा से 16 कर्मचारियों के परिजनों ने अनुकंपा के लिए आवेदन किया है।

पिछली बार के नियमों में बदलाव कर शासन ने नए सिरे से आवेदन मांगे थे। आवेदन के लिए 15 जून तक का वक्त दिया था। इस बार आवेदन में बदलाव यह था कि विभागध्यक्ष की वेबसाइट से देना था। 15 जून शाम छह बजे तक कुल 95 आवेदन आ गए। आवेदन जिला जिला स्तरीय समिति को भेजा गया है। जिलाधिकारी ने एक स्क्रूटनी कमेटी गठित की है। यह कमेटी अब प्राप्त आवेदनों की जांच कर उसका मिलान नए नियमों से कराएगी। जिसके बाद संस्तुति के लिए इसे शासन को भेजा जाएगा।

यह था पुराना नियम

पुराने नियम के तहत पंचायत चुनाव ड्यूटी के लिए घर से निकलने और घर लौटने के बीच हुई मौत के बाद ही कर्मचारी को मुआवजे का पात्र माना जाएगा।

नया नियम

पंचायत चुनाव ड्यूटी से 30 दिन के भीतर अगर किसी की मौत होती है तो इसे चुनाव ड्यूटी में माना जाएगा। इसके आधार पर ही मुआवजा दिया जाएगा।

क्यों बदला गया नियम

चुनाव के लिए मुआवजे के नियम पुराने थे, जबकि इस बार महामारी के कारण लोग चुनाव में गए और संक्रमित हुए। उनकी मौत बाद में हुई। ऐसे में नियम बदला गया।

30 लाख रुपये मिलेगा मुआवजा

अगर स्क्रूटनी समिति सभी नाम को स्वीकृत करती है और शासन से अनुमति मिलती है जो प्रत्येक व्यक्ति के परिजन को 30 लाख रुपये मुआवजे की राशि दी जाएगी।

संबंधित खबरें