DA Image
16 जनवरी, 2021|7:53|IST

अगली स्टोरी

बुधादित्य योग व पुष्य नक्षत्र से इस साल बरसेंगी खुशियां

बुधादित्य योग व पुष्य नक्षत्र से इस साल बरसेंगी खुशियां

आज शुभ संयोग लिए पुष्य नक्षत्र में नव वर्ष 2021 का शुरू हो गया। वैसे तो ईश्वीय सन के नववर्ष की प्रकृति पर गौर करें तो देवताओं या ग्रह, राशि से इसका कोई खास संबंध नहीं है। इसमें आधी रात तारीख बदलती है। जबकि ग्रह, राशि की गणना पर आधारित हिंदी वर्ष सूर्य की किरणों के साथ शुरू होता है। इन सबके बावजूद आजकल ज्यादातर ग्रेगोरियन ईयर ही प्रचलन में है और नए कार्यों की शुरुआत में ग्रह दोष का आकलन प्राचीन समय से ही किया जाता रहा है। ज्योतिर्विदों की मानें तो नववर्ष का आगाज शुक्रवार को बुधादित्य योग व पुष्य नक्षत्र के साथ हो रहा है। यह संयोग सभी के लिए नई उपलब्धियां लेकर आया है।

पं. अरुणेश कुमार त्रिपाठी के अनुसार नव वर्ष का सूर्योदय पौष कृष्ण पक्ष द्वितीया तिथि, कर्क राशि के चंद्रमा, कन्या लग्न तथा पुष्य नक्षत्र में शनि की महादशा में हुआ है। साल की शुरुआत और समापन भी शुक्रवार को है। पुष्य नक्षत्र सभी कार्यों में सिद्धि देने वाला है। वर्ष के पहले दिन मध्यरात्रि में गुरुवार एवं सूर्योदय के बाद शुक्रवार तथा पुष्य नक्षत्र है। इस दिन भगवान विष्णु के साथ माता लक्ष्मी की विशेष कृपा रहेगी। यह दिन तथा योग व्यापार में वृद्धि व लोगों को सुख-समृद्धि के साथ आर्थिक बल प्रदान करने वाला होगा।

कोरोना महामारी से मिलेगी निजात

ज्योतिष की दृष्टि से नया साल बहुत सी उम्मीदें और राहत लेकर आया है। वर्ष 2021 में पूरे साल शनि का संचार मकर राशि में, राहु वृष में, केतु वृश्चिक में और बृहस्पति 29 मार्च तक मकर में तथा इसके बाद कुंभ राशि में संचार करेंगे। 2021 की वर्ष प्रवेश कुंडली में लग्नेश बुध व चंद्रमा दोनों ही अच्छी एवं मजबूत स्थिति में होंगे। ऐसे में कोरोना वैक्सीन की उपलब्धता जनमानस को इस महामारी के दौर से बाहर निकालने में सक्षम होगी। मन कारक चंद्रमा स्वराशि में होने से जनमानस को कोरोना के मानसिक भय से बाहर निकलकर पूरे उत्साह के साथ जीवन में आगे बढ़ाने को प्रेरित करेगा। इसके साथ ही लाभेश होने से चंद्रमा आर्थिक स्थिति को भी मजबूत करेगा और रोजगार में वृद्धि होगी।

बढ़ेंगे रोजगार के अवसर

भारत की कुंडली के हिसाब से 29 मार्च के बाद पूरे साल बृहस्पति का संचार कर्म स्थान में रहेगा। जो नए रोजगारों को बढ़ाएगा। बावजूद इसके 2021 की प्रवेश कुंडली में मंगल आठवें भाव में स्थित है। भारतीय पंचांग के अनुसार 13 अप्रैल 2021 से हिन्दू नववर्ष का आरंभ होगा। इस बार नए सम्वत का राजा और मंत्री दोनों पद मंगल के पास रहेंगे। मंगल के प्रभाव के कारण समाज में आपसी विवाद, राजनैतिक विवाद व सीमा विवाद बढ़ने की संभावना है।

नारी शक्ति का होगा अभ्युदय

नववर्ष 2021 की कुंडली के मुताबिक कन्या लग्न में लग्नेश बुध चतुर्थ भाव में सूर्य के साथ बुधादित्य योग बना रहा है। कन्या लग्न पर बुध का अधिपत्य माना जाता है। यह राशि महिलाओं का प्रतिनिधित्व करती है। इसलिए पूरे वर्ष महिलाओं का प्रभाव बढ़ेगा और विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत महिलाओं के सम्मान व प्रभाव में बढ़ोतरी होगी। नारी शक्ति का अभ्युदय होगा।

किस राशि के लिए कैसा रहेगा नया साल

मेष: मेष राशि वालों के लिए नया साल धन और सम्मान संबंधी विशेष अवसर लेकर आया है। मेहनत के चलते सितारा बुलंद होने के संकेत हैं।

वृष: नूतन वर्ष में नए-नए शुभ समाचार प्राप्त होने के योग हैं। धन वृद्धि एवं आय के नए स्रोत बनेंगे। योजनाएं सटीक बनाएं।

मिथुन: नए-नए संबंधों का लाभ मिलेगा। परिवार में शुभ कार्य होंगे। स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें। शत्रु से सचेत रहना आपके लिए हितकर रहेगा।

कर्क: व्यवसाय अथवा नौकरी में दायित्व बढ़ेगा। भूमि, भवन के लिए किये जा रहे प्रयास सार्थक होंगे। चल-अचल संपत्ति का लाभ होने की संभावना है।

सिंह: नया साल मिलाजुला फल देने वाला है। कार्यों में रुकावट आने की संभावना है। आय के स्रोत बने रहेंगे। व्यय अधिक रहेगा।

कन्या: अधूरे कार्य पूर्ण होने की संभावना है। धन प्राप्ति के कई मार्ग खुलेंगे। सहयोगियों की मदद से आर्थिक लाभ मिलेगा।

तुला: वर्ष अधिक शुभ नहीं होगा। कार्य में अनावश्यक व्यवधान आएंगे। कुछ व्यक्तिगत समस्याएं सुलझ जाएंगी।

वृश्चिक: कार्यों में लाभ होगा। इस वर्ष परिश्रम और संघर्ष की अधिकता रहेगी। लाभ पर्याप्त मात्रा में मिलेगा। परिवार में प्रतिष्ठा बढ़ेगी।

धनु: हर्षोल्लास का वातावरण बनेगा। धन व प्रतिष्ठा हानि के आसार हैं। परिश्रम करें तो सब कार्य सही से संपन्न होंगे।

मकर: मकर राशि वालों के लिए यह वर्ष पारिवारिक खुशियों का है। परिवार में मंगल कार्य होंगे। उच्च अधिकारियों से मधुर संबंध बनेंगे।

कुंभ: कर्तव्य के प्रति सचेत रहें। इस वर्ष पदोन्नति अथवा धन प्राप्ति की विशेष योग हैं। अधिक व्यस्तता के कारण स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

मीन: परिश्रम करने से उचित लाभ होता रहेगा। भौतिक सुखों के उपयोग की सुख सामग्री प्राप्त होती रहेगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:This year will be blessed with Budhaditya Yoga and Pushya Nakshatra