DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › प्रतापगढ़ - कुंडा › पुलिस टीम पर हमले में सात नामजद, एक गिरफ्तार
प्रतापगढ़ - कुंडा

पुलिस टीम पर हमले में सात नामजद, एक गिरफ्तार

हिन्दुस्तान टीम,प्रतापगढ़ - कुंडाPublished By: Newswrap
Mon, 25 Jan 2021 11:51 PM
पुलिस टीम पर हमले में सात नामजद, एक गिरफ्तार

कंधई थाना क्षेत्र के शिवसत गांव में रविवार शाम रास्ता और नाली का विवाद सुलझाने पहुंची पुलिस टीम पर हमले में सात लोगों को नामजद करते हुए गंभीर धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की गई है। पुलिस ने सोमवार को मुख्य आरापित को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

शिवसत गांव निवासी रामेंद्र सिंह व भालचंद सिंह के बीच रास्ता और नाली का विवाद सुलझाने कंधई एसओ अंगद राय पुलिस टीम के साथ पहुंचे थे। आरोप है कि इस दौरान रामेंद्र का पक्ष पुलिस पर हमलावर हो गया और चौकी प्रभारी दिलीपपुर सहित चार सिपाहियों की पिटाई कर दी। देर रात मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों ने घटना की जांच की।

देर रात एसओ अंगदराय की तहरीर पर कंधई थाने में रामेंद्र सिंह, नागेंद्र सिंह, सुरेंद्र, विशाल, प्रीत, रिषभ व अजय सिंह को नामजद करते हुए सरकारी कर्मचारी पर जानलेवा हमले, सरकारी कार्य में बाधा डालने, बलवा और 7 सीएलए एक्ट की रिपोर्ट दर्ज कराई। सोमवार को मुख्य आरोपित रामेंद्र को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। एसओ अंगद राय ने बताया कि सभी आरोपित एक ही परिवार के हैं। सभी घर से फरार हैं। उनकी तलाश की जा रही है।

....

रास्ते में पानी भरने पर हो रहा था विवाद

रखहा। रामेंद्र के विरोधी भालचंद के घर जाने वाली सड़क पक्की है लेकिन वर्तमान में जर्जर हो चुकी है। यह सड़क रामेंद्र के घर के बगल से गुजरती है। किनारे नाली न होने के कारण सड़क पर हमेशा पानी भरा रहता है। आवागमन में असुविधा के कारण भालचंद ने अधिकारियों को प्रार्थनापत्र दिया था। रविवार शाम पहुंची पुलिस नाली बनवाने को लेकर ही बातचीत कर रही थी। तभी विवाद हुआ और लोगों ने पुलिस टीम पर हमला बोल दिया।

....

पुलिस पर तोड़फोड़, अभद्रता का आरोप

पुलिसकर्मियों पर हमला करने के आरोपित रामेंद्र सिंह की बेटी मोनिका सिंह ने पुलिसकर्मियों पर घर में तोड़फोड़ और अभद्रता का आरोप लगाया है। रामेंद्र की बेटी मोनिका ने मीडियाकर्मियों से बातचीत में कहा कि बिना महिला सिपाही के पुलिस उनके घर में घुस गई। महिला सिपाही मौके पर मौजूद थीं लेकिन घर के अंदर नहीं गई थीं। पुरुष सिपाही अंदर गए और तोड़फोड़ करने के साथ ही अभद्रता भी की। मोनिका ने यह भी आरोप लगाया कि पुलिस बिना मामला निस्तारित किए जाने लगी तो उसके पिता रोकने लगे थे। कह रहे थे कि मामले का निस्तारण करके जाइए। इसी पर पुलिसकर्मी उनकी पिटाई करने लगे।

संबंधित खबरें