Tuesday, January 25, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश प्रतापगढ़ - कुंडाराजस्थानी लोकनृत्य-गीत से बांधा समां

राजस्थानी लोकनृत्य-गीत से बांधा समां

हिन्दुस्तान टीम,प्रतापगढ़ - कुंडाNewswrap
Sat, 04 Dec 2021 11:51 PM
प्रताप बहादुर स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिटी में शनिवार को स्पिक मैके की ओर से आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में राजस्थान के कलाकारों ने रंगबिरंगी...
1/ 3प्रताप बहादुर स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिटी में शनिवार को स्पिक मैके की ओर से आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में राजस्थान के कलाकारों ने रंगबिरंगी...
प्रताप बहादुर स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिटी में शनिवार को स्पिक मैके की ओर से आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में राजस्थान के कलाकारों ने रंगबिरंगी...
2/ 3प्रताप बहादुर स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिटी में शनिवार को स्पिक मैके की ओर से आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में राजस्थान के कलाकारों ने रंगबिरंगी...
प्रताप बहादुर स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिटी में शनिवार को स्पिक मैके की ओर से आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में राजस्थान के कलाकारों ने रंगबिरंगी...
3/ 3प्रताप बहादुर स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिटी में शनिवार को स्पिक मैके की ओर से आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में राजस्थान के कलाकारों ने रंगबिरंगी...

प्रतापगढ़। प्रताप बहादुर स्नातकोत्तर महाविद्यालय सिटी में शनिवार को स्पिक मैके की ओर से आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में राजस्थान के कलाकारों ने रंगबिरंगी प्रस्तुतियों से समा बांध दिया। इसके अलावा राजस्थानी प्रसिद्ध गीत निमुड़ा-निमुड़ा के नृत्य से कलाकारों ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

सांस्कृतिक कार्यक्रम में विश्व प्रसिद्ध राजस्थानी सुरभनाथ कालबेलिया एंड जनजाति राजस्थान जोधपुर के सुरभनाथ मनजोर, महबूब खान, साबिर खान व कासम खान ने अपने सुरलहरी से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। कालबेलिया समूह की ओर से निमुड़ा-निमुड़ा गीत पर नृत्य प्रस्तुत कर कलाकारों ने राजस्थानी माटी की यादें ताजा कर दी। जियरा लरखे मां बरसे मेघ घननन के गायन पर लोग भावविभोर हो गए। कार्यक्रम का संयोजन करते हुए डॉ. शिवानी मातनहेलिया ने बताया कि स्पिक मैके एक अंतर्राष्ट्रीय संस्था है जो भारतीय संस्कृति का रक्षण ही नहीं बल्कि पोषण भी करती है। अध्यक्षता कर रहे महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. बृजभानु सिंह ने कहा कि बालक के समरस विकास के लिए पाठ्य सहगामी क्रियाओं के माध्यम से उनका सांस्कृतिक एवं नैतिक विकास किया जा सकता है। संचालन डॉ. निहारिका श्रीवास्तव ने किया। कलाकर मिठू सापरे भावई व आरती सपेरा ने कालबेलिया नृत्य से सबका मन मोह लिया। कार्यक्रम में डॉ. श्रद्धा सिंह, नीरज, डॉ. उपेन्द्र सिंह, डॉ. राजीव कुमार सिंह, रामराज, डॉ. धर्मेन्द्र प्रताप सिंह, डॉ. भावना सिंह, डॉ. प्रीति श्रीवास्तव, डॉ. रेनू सिंह सहित महाविद्यालय के शिक्षक- शिक्षिका मौजूद रहे।

epaper

संबंधित खबरें