DA Image
22 सितम्बर, 2020|2:52|IST

अगली स्टोरी

पड़ोसियों से पूछ रही प्रेम, कहां गए हैं मेरे बेटे

पड़ोसियों से पूछ रही प्रेम, कहां गए हैं मेरे बेटे

1 / 2राजेश और उसकी पत्नी प्रेमकुमारी की पलकें रातभर नहीं झपकीं। दोनों अपने बेटों की राह निहारते रहे। प्रेमकुमारी को तो अब भी यकीन नहीं हो रहा है कि उसके बेटे कभी लौट कर नहीं आएंगे। वह आसपास के लोगों से...

पड़ोसियों से पूछ रही प्रेम, कहां गए हैं मेरे बेटे

2 / 2राजेश और उसकी पत्नी प्रेमकुमारी की पलकें रातभर नहीं झपकीं। दोनों अपने बेटों की राह निहारते रहे। प्रेमकुमारी को तो अब भी यकीन नहीं हो रहा है कि उसके बेटे कभी लौट कर नहीं आएंगे। वह आसपास के लोगों से...

PreviousNext

राजेश और उसकी पत्नी प्रेमकुमारी की पलकें रातभर नहीं झपकीं। दोनों अपने बेटों की राह निहारते रहे। प्रेमकुमारी को तो अब भी यकीन नहीं हो रहा है कि उसके बेटे कभी लौट कर नहीं आएंगे। वह आसपास के लोगों से पूछ रही है कि उसके बेटे कहां गए हैं और कब आएंगे।

जेठवारा इलाके के शमशेरगंज बाजार निवासी राजेश कुमार पटवा के बेटों आर्यन (4) और शिवाय (2) की बुधवार सुबह बाजार के पास सड़क किनारे शौच करते समय बस की चपेट में आने से मौत हो गई थी। राजेश और उसकी पत्नी प्रेमकुमारी को अब भी यकीन नहीं हो रहा है कि उनके बेटे अब कभी लौट कर नहीं आएंगे। दोनों बेटों का बुधवार को पोस्टमार्टम के बाद मुख्यालय पर ही सई नदी किनारे अंतिम संस्कार कर दिया गया। शाम तक बाजार और आसपास के लोगों की भीड़ राजेश के घर के बाहर डटी रही। लोगों के रात को अपने घर चले जाने के बाद भी राजेश और उसकी पत्नी की आंखें नहीं झपीं। रातभर दोनों बेटों के घर लौटने की राह ताकते रहे। प्रेमकुमारी तो दूसरे दिन भी बदहवास दिखी। वह शोक व्यक्त करने घर आने वालों और बाजार के आसपास के लोगों से पूछती रही कि उसके बेटे कहां गए हैं और कब आएंगे। उसकी यह हालत देख लोग भी अपने आंसू नहीं रोक पा रहे थे।

बाजार में रहा सन्नाटा, बंद रहीं दुकानें : शमशेरगंज बाजार में बस की चपेट में आने से दो मासूम भाइयों की मौत के दूसरे दिन गुरुवार को भी सन्नाटा रहा। बाजार की ज्यादातर दुकानें बंद रहीं। बाजार में रहने वाले लोगों के घर के बाहर भी सन्नाटा रहा।

पुलिस ले गई बस, ड्राइवर का पता नहीं : शमशेरगंज बाजार में बुधवार को मासूम भाइयों को रौंदने वाली बस पुलिस थाने ले आई है। बुधवार शाम को ही पुलिस ट्रैक्टर लेकर मौके पर पहुंची और बस खिंचवाकर थाने ले आई। हालांकि बस ड्राइवर के बारे में पुलिस को कोई सुराग नहीं लग सका है। एसओ संजय पांडेय ने बताया कि बस के मालिक को बुलाया गया है। बस मालिक के आने पर ही ड्राइवर के बारे में जानकारी मिल सकेगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Prem asking neighbors where have my sons gone