DA Image
27 नवंबर, 2020|11:44|IST

अगली स्टोरी

कलंक को मिटाने में फांसी भी स्वीकार

कलंक को मिटाने में फांसी भी स्वीकार

श्रीराम जन्मभूमि पर रहा विवादित ढांचा हमारी सनातन संस्कृति पर कलंक था। हमने उस कलंक को खत्म किया। उसके लिए फांसी की भी सजा स्वीकार थी। यह बातें सरैंया में शिव सैनिकों के बीच अयोध्या प्रकरण के मुख्य आरोपित संतोष कुमार दूबे ने कहीं।

अयोध्या के रहने वाले व पूर्वी उत्तर प्रदेश के शिव सेना प्रभारी संतोष ने कहा कि विवादित ढांचे के विध्वंस के साथ ही काशी-मथुरा को भी मुक्त कराने की मु्हिम चलेगी। उन्होंने जनपद में शिव सैनिकों की सक्रियता की सराहना की। वह शिव सैनिकों संग रविवार शाम गंगा घाट मानिकपुर पहुंचे। मां गंगा का पूजन-आरती कर सनातन संस्कृति के साथ ही मातृ भूमि की रक्षा की कामना की। इस मौके पर शिव सेना प्रमुख दिनेश पाण्डेय, रवि शंकर, प्रदीप पाण्डेय, विमलेश उपाध्याय, अरुण पाण्डेय, बृजेश मिश्रा, संजय शिल्पकार, जगदीश, भुवनेश्वर तिवारी, सुरेश पाण्डेय, बाल मुकुन्द, चन्द्रभान मिश्र, रामबाबू मिश्र, नीरज मिश्र, ज्ञान सिंह, किशोरीलाल, गजेन्द्र आदि मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hanging to remove stigma is also accepted