DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › प्रतापगढ़ - कुंडा › टाइनी संचालक, बैंक प्रबंधक व कर्मचारियों पर एफआईआर
प्रतापगढ़ - कुंडा

टाइनी संचालक, बैंक प्रबंधक व कर्मचारियों पर एफआईआर

हिन्दुस्तान टीम,प्रतापगढ़ - कुंडाPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 04:50 PM
टाइनी संचालक, बैंक प्रबंधक व कर्मचारियों पर एफआईआर

प्रतापगढ़। ग्रामीणों के बैंक खातों में दो-दो लाख रुपये ऑनलाइन ट्रांसफर होने के मामले में रविवार को टाइनी शाखा संचालक, बैंक प्रबंधक व कर्मचारियों पर धोखाधड़ी और फर्जीवाड़े की रिपोर्ट दर्ज की गई। पुलिस अभी हिरासत में लिए गए टाइनी शाखा संचालक से पूछताछ कर रही है।

कंधई इलाके के खभोर गांव के कुछ लोगों ने बैंक ऑफ बड़ौदा की महुली शाखा में जनधन योजना में खाता खोलवाया था। ये लोग बैंक के सामने टाइनी शाखा चलाने वाले रवि सिंह उर्फ विवेक से रुपये का लेनदेन करने लगे। इस बीच कुछ ग्रामीणों के जनधन खाते में दो-दो लाख रुपये आ गए। जिस पर टाइनी शाखा संचालक ग्रामीणों को 20 हजार रुपये देकर शेष रुपये लेने लगा तो इसकी शिकायत शाखा प्रबंधक से की गई। कोई कार्रवाई न होने पर खभोर गांव निवासी अंजू देवी ने शनिवार को एसपी से शिकायत की। इसके बाद पुलिस ने टाइनी शाखा संचालक को हिरासत में ले लिया।

सूत्रों के अनुसार पुलिस की पूछताछ में पता चला कि टाइनी शाखा संचालक ने ग्रामीणों को प्रधानमंत्री योजना के 20 हजार रुपये मिलने की जानकारी देकर कागज पर अंगूठा लगवाया था। उनके खाते में दो लाख रुपये आने के बाद वह 20 हजार रुपये उन्हें देकर 1 लाख 80 हजार खुद हड़पने लगा। अंजूदेवी की तहरीर पर पुलिस ने रविवार को टाइनी शाखा संचालक रवि सिंह, बैंक के शाखा प्रबंधक व अन्य कर्मचारियों के खिलाफ धोखाधड़ी और फर्जीवाड़े की रिपोर्ट दर्ज कर ली। पुलिस अभी भी हिरासत में लिए गए टाइनी शाखा संचालक से पूछताछ कर रही है। शहर कोतवाल रवींद्रनाथ राय ने बताया कि मामले की रिपोर्ट कर ली गई है। अभी साक्ष्य संकलित किए जा रहे हैं। साक्ष्य के अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

रुपये निकालने वालों की बढ़ेगी मुश्किल

प्रतापगढ़। टाइनी शाखा संचालक के झांसे में आकर अपने खाते से रुपये लेने वाले अन्य लोगों की मुसीबत बढ़ सकती है। इलाके में हो रही चर्चा की मानें तो संचालक ने पहले भी कई लोगों को इस तरह से रुपये दिलाया है। कई लोगों ने अभी तक चुप्पी साध रखी है। अब बीमा के रुपये लेने वाले सभी खाता धारकों की जांच में ऐसे लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई हो सकती है।

संबंधित खबरें