DA Image
3 मार्च, 2021|7:42|IST

अगली स्टोरी

सीओ हत्याकांड : आठ साल बाद मिली जमानत

default image

बलीपुर में दो मार्च 2013 की रात सीओ जियाहुल हक हत्याकांड के बाद प्रधान की हत्या के मामले में आरोपित राजीव प्रताप सिंह को आठ साल बाद सोमवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ से जमानत मिल गई। हालांकि जेल से बाहर आने में अभी हफ्तेभर का समय लगेगा।

हथिगवां थाना क्षेत्र के बलीपुर गांव निवासी प्रधान नन्हे यादव की दो मार्च 2013 की देर शाम हत्या हो गई थी। थोड़ी देर बाद उसके भाई सुरेश की भी गोली लगने से मौत हो गई थी। इस मामले गांव पहुंचे तत्कालीन सीओ जियाउल हक की भी गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। ट्रिपल मर्डर का मामला राष्ट्रीय स्तर पर महीनों गूंजता रहा। कई महीने सीबीआई कुंडा में डेरा डाले रही। राजा भैया के करीबी रहे बलीपुर गांव निवासी गुड्डू सिंह, उनके भाई राजीव सिंह समेत कई लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। सीओ हत्याकांड और प्रधान हत्याकांड में सभी पर अलग-अलग रिपोर्ट दर्ज हुई थी। सीओ जियाउल हक़ की हत्या में राजीव को सीबीआई ने क्लीन चिट दे दी थी, लेकिन बलीपुर प्रधान रहे नन्हे यादव हत्याकांड मामले में राजीव सिंह अभी जेल में बंद है।

इस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ में न्यायमूर्ति मनीष माथुर ने सीनियर अधिवक्ता एसके वर्मा की जिरह के बाद 16 दिसंबर को जमानत पर फैसला सुरक्षित किया था। सोमवार को कोर्ट से जमानत मिल गई। भाई गुड्डू सिंह ने बताया कि जमानत आदेश मिल गया। हफ्तेभर में वह रिहा हो जाएंगे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:CO massacre bail granted after eight years