DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › प्रतापगढ़ - कुंडा › बकुलाही भी उफान पर, दर्जनों गांवों पर संकट
प्रतापगढ़ - कुंडा

बकुलाही भी उफान पर, दर्जनों गांवों पर संकट

हिन्दुस्तान टीम,प्रतापगढ़ - कुंडाPublished By: Newswrap
Sun, 19 Sep 2021 11:31 PM
बकुलाही भी उफान पर, दर्जनों गांवों पर संकट

वैशपुर। बारिश थमने के बाद भी बेल्हा में सई नदी सहित छोटी नदियों का पानी उफान पर है। मानधाता इलाके से गुजरी बकुलाही नदी के उफान से दर्जनों गांवों के लोगों की गृहस्थी बर्बाद हो चुकी है। पानी पक्के पुल के ऊपर से बह रहा है। इससे दो दर्जन से अधिक गांव वालों को दूसरे छोर पर बसे गांव वालों से सम्पर्क टूट चुका है। कछार पर बसे परिवार घर छोड़ने पर मजबूर हैं।

जिले में तीन दिन हुई मुसलाधार बारिश का कहर शुक्रवार से थम गया है लेकिन नदियां अभी भी उफान पर हैं जिससे कछार पर बसे गांव के परिवार दहशत में हैं। रविवार को मानधाता इलाके से गुजरी बकुलाही नदी पूरे उफान पर रहीं। देल्हूपुर से मानधाता जाने वाली सड़क पर बकुलाही नदी का पुल बना है। शनिवार से ही नदी का पानी पुल के ऊपर से बह रहा है। जबकि एक अन्य बांस का बना पुल पानी के साथ बह चुका है। ग्रामीणों ने पुल के ऊपर रस्सी बांधकर निशान बना दिया है जिससे पता चल सके कि पुल कहां है और नदी कहां है। नदी के कछार पर बसे पुरैला, मदईपुर, चंघाईपुर, सुबरनी, बरसंडा, नूरपुर, गुड़रू, पल्हान, भगवानपुर, छितपालगढ़, सराय राजा, खरवई, सहिजनपुर गांव के लोग प्रभावित हैं। पुल के ऊपर से पानी बहने के कारण नदी के दोनों छोर पर बसे गांव का एक दूसरे से सम्पर्क टूट गया है। लोग जान जोखिम में डालकर रस्सी के सहारे नदी पार कर दूसरी ओर जा रहे हैं।

लोनी नदी पर बना पुल भी पानी में डूबा

सगरा सुंदरपुर। वैद्य का पुरवा लीलापुर से गुजरी लोनी नदी पर बना पुल भी रविवार को पूरी तरह से पानी में डूब गया। लोनी नदी का जलस्तर बढ़ने से पहले से जर्जर पुल के ऊपर से पानी बहने लगा है। ऐसे में इस पुल से गुजरना किसी भी लिहाज से सुरक्षित नहीं है। खास बात यह कि इस पुल से गुजरने वाले तीन दर्जन से अधिक गांव वालों की सुधि लेने के लिए अभी तक कोई प्रशासनिक अफसर मौके पर नहीं पहुंचा है।

संबंधित खबरें