DA Image
28 नवंबर, 2020|10:12|IST

अगली स्टोरी

आरोपितों की गिरफ्तारी न होने पर फूटा गुस्सा, सड़क जाम

आरोपितों की गिरफ्तारी न होने पर फूटा गुस्सा, सड़क जाम

1 / 4कंधई थाना क्षेत्र के पूरे देवजानी में कार्यवाहक ग्राम प्रधान व उनके भाई पर जानलेवा हमले के आरोपितों की चार दिन बाद भी गिरफ्तारी न होने पर मंगलवार को लोगों का आक्रोश भड़क उठा। आक्रोशित लोगों ने करैला...

आरोपितों की गिरफ्तारी न होने पर फूटा गुस्सा, सड़क जाम

2 / 4कंधई थाना क्षेत्र के पूरे देवजानी में कार्यवाहक ग्राम प्रधान व उनके भाई पर जानलेवा हमले के आरोपितों की चार दिन बाद भी गिरफ्तारी न होने पर मंगलवार को लोगों का आक्रोश भड़क उठा। आक्रोशित लोगों ने करैला...

आरोपितों की गिरफ्तारी न होने पर फूटा गुस्सा, सड़क जाम

3 / 4कंधई थाना क्षेत्र के पूरे देवजानी में कार्यवाहक ग्राम प्रधान व उनके भाई पर जानलेवा हमले के आरोपितों की चार दिन बाद भी गिरफ्तारी न होने पर मंगलवार को लोगों का आक्रोश भड़क उठा। आक्रोशित लोगों ने करैला...

आरोपितों की गिरफ्तारी न होने पर फूटा गुस्सा, सड़क जाम

4 / 4कंधई थाना क्षेत्र के पूरे देवजानी में कार्यवाहक ग्राम प्रधान व उनके भाई पर जानलेवा हमले के आरोपितों की चार दिन बाद भी गिरफ्तारी न होने पर मंगलवार को लोगों का आक्रोश भड़क उठा। आक्रोशित लोगों ने करैला...

PreviousNext

कंधई थाना क्षेत्र के पूरे देवजानी में कार्यवाहक ग्राम प्रधान व उनके भाई पर जानलेवा हमले के आरोपितों की चार दिन बाद भी गिरफ्तारी न होने पर मंगलवार को लोगों का आक्रोश भड़क उठा। आक्रोशित लोगों ने करैला बाजार में मदाफरपुर रोड पर जाम लगा दिया। ब्राह्मण महासभा के पदाधिकारियों के साथ पीड़ित पक्ष के लोग सड़क पर धरने पर बैठ गए। पुलिस पहुंची तो लोग शस्त्र लाइसेंस, पीड़ित परिवार की सुरक्षा व निष्पक्ष कार्रवाई की मांग करने लगे। इस दौरान आक्रोशित लोगों ने पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। बाद में कैबिनेट मंत्री के प्रतिनिधि व अधिकारियों ने लोगों को समझाकर जाम खुलवाया। तब कहीं जाकर तीन घंटे बाद आवागमन सुचारु हो सका।

पूरे देवजानी निवासी स्वामीनाथ तिवारी के पुत्र आशीष तिवारी उर्फ बीनू कार्यवाहक ग्राम प्रधान हैं। 21 अगस्त को बाइक से आए नकाबपोश बदमाशों ने आशीष व उनके बड़े भाई वशिष्ठ तिवारी को गोली मार दी थी। प्रयागराज के एसआरएन अस्पताल में भर्ती दोनों भाइयों की हालत में सुधार बताया जा रहा है। इस मामले में आशीष की तहरीर पर पुलिस ने जेल में बंद पदच्युत ग्राम प्रधान जुनैद अहमद, उसके माता-पिता, ताऊ व तीन अज्ञात बदमाशों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर की है।

घटना के चार दिन बाद भी किसी भी आरोपित की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। इससे एसओ कंधई की कार्यशैली पर संदेह जताते हुए आशीष के परिजनों ने मंगलवार सुबह सुरक्षा के लिए घर पर लगाए गए पुलिसकर्मियों को वापस थाने भेज दिया। इस पर भी कंधई पुलिस के कान में जूं नहीं रेंगी तो दोपहर करीब एक बजे अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा (रा) के साथ सड़क पर उतर आए। पट्टी थाना क्षेत्र के करैला बाजार में मदाफरपुर रोड जाम कर लोग धरने पर बैठ गए। पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करते हुए लोग आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग करने लगे। रोड जाम करने से आवागमन बाधित हो गया। इस बात की जानकारी होते ही पट्टी थाना प्रभारी नरेंद्र सिंह फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए और लोगों को समझाने का प्रयास करने लगे। लेकिन वे नहीं माने। कुछ देर में आसपुर देवसरा एसओ सुनील कुमार सिंह, कोहड़ौर एसओ संजय यादव, फतनपुर एसओ गणेश सिंह व कंधई एसओ विनोद यादव भी फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए। मामले की जानकारी मिलने पर एएसपी पूर्वी सुरेंद्र प्रसाद द्विवेदी, सीओ रानीगंज डॉ. अतुल अंजान त्रिपाठी, एसडीएम डीपी सिंह, तहसीलदार विनोद कुमार गुप्ता व नायब तहसीलदार राजकपूर भी मौके पर पहुंच गए। अधिकारियों ने पीड़ित परिवार की सुरक्षा, शीघ्र आरोपितों की गिरफ्तारी, निष्पक्ष कार्रवाई तथा शस्त्र लाइसेंस के लिए लिखापढ़ी का आश्वासन दिया। लोग गोली मारने वाले शूटरों को चिह्नित कर शीघ्र गिरफ्तारी व कैबिनेट मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह (मोती) को मौके पर बुलाने की जिद पर अड़े रहे। इस दौरान एएसपी ने मंत्री के प्रतिनिधि विनोद पांडेय से मोबाइल फोन पर उनकी बात कराई। तब करीब चार बजे लोग शांत हुए और अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा (रा) के प्रदेश प्रभारी प्रवीण मिश्रा व विहिप के पदाधिकारी विमल सिंह की अगुवाई में अधिकारियों को अपनी तीन सूत्री मांगों का ज्ञापन सौंपकर सड़क से हटे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Anger erupted due to non-arrest of accused road jam