DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › प्रतापगढ़ - कुंडा › छप्पर के नीचे सो रहे दंपती पर फेंका तेजाब
प्रतापगढ़ - कुंडा

छप्पर के नीचे सो रहे दंपती पर फेंका तेजाब

हिन्दुस्तान टीम,प्रतापगढ़ - कुंडाPublished By: Newswrap
Wed, 27 Jan 2021 04:50 PM
घर के बाहरी हिस्से में लटक रहे छप्पर के नीचे जमीन पर सो रहे दंपती पर तेजाब फेंक दिया गया। इससे दोनों झुलस गए। दोनों को जिला अस्पताल से रात में ही...
1 / 2घर के बाहरी हिस्से में लटक रहे छप्पर के नीचे जमीन पर सो रहे दंपती पर तेजाब फेंक दिया गया। इससे दोनों झुलस गए। दोनों को जिला अस्पताल से रात में ही...
घर के बाहरी हिस्से में लटक रहे छप्पर के नीचे जमीन पर सो रहे दंपती पर तेजाब फेंक दिया गया। इससे दोनों झुलस गए। दोनों को जिला अस्पताल से रात में ही...
2 / 2घर के बाहरी हिस्से में लटक रहे छप्पर के नीचे जमीन पर सो रहे दंपती पर तेजाब फेंक दिया गया। इससे दोनों झुलस गए। दोनों को जिला अस्पताल से रात में ही...

घर के बाहरी हिस्से में लटक रहे छप्पर के नीचे जमीन पर सो रहे दंपती पर तेजाब फेंक दिया गया। इससे दोनों झुलस गए। दोनों को जिला अस्पताल से रात में ही प्रयागराज रेफर कर दिया गया। पति की हालत गंभीर बताई जा रही है। मामले में दूसरे दिन शाम तक थाने में कोई तहरीर नहीं दी जा सकी थी।

मामला जेठवारा क्षेत्र के भोगापुर का है। उक्त गांव निवासी अमरजीत (45) राजमिस्त्री का काम करता है। मंगलवार रात करीब साढ़े आठ बजे वह बाहर की ओर लटक रहे छप्पर में पत्नी रन्नो (40), बेटा शिवम (12) और बेटी संजना (7) के साथ जमीन पर सो रहा था। अचानक पति-पत्नी चीखने लगे। करीब ही दूसरे घर में सो रहे परिजन व आसपास के लोग पहुंचे तो देखा अमरजीत और उसकी पत्नी रन्नो पर तेजाब फेंका था। अमरजीत का चेहरा और रन्नो का पैर झुलस गया था। दोनों ने ग्रामीणों को बताया कि कोई तेजाब फेंककर चला गया है। आननफानन दोनों को जिला अस्पताल ले जाया गया। वहां से प्रयागराज रेफर कर दिया गया। जानकारी मिलने पर एएसपी पश्चिमी दिनेश द्विवेदी, सीओ तनु उपाध्याय, एसओ संजय पांडेय मौके पर पहुंचे और आसपास के लोगों से जानकारी ली। पुलिस अधिकारियों ने जिला अस्पताल में घायलों से पूछताछ की। एएसपी दिनेश द्विवेदी ने बताया कि दंपती को केमिकल इंजरी है। किसी पर आरोप नहीं लगा रहे हैं। मामले की जांच की जा रही है।

सुरक्षित बच गए साथ सो रहे बच्चे : भोगापुर में पत्नी के साथ तेजाब से झुलसे अमरजीत ने दो शादियां की है। पहली पत्नी से उसे एक बेटा और एक बेटी है। वह दोनों रात में करीब 20 मीटर दूर दूसरे घर में अपने दादा शोभई के साथ सो रहे थे। दूसरी पत्नी के बच्चे शिवम व संजना अमरजीत के पास ही सो रहे थे। तेजाब फेंकने के दौरान दोनों बच्चे पूरी तरह से सुरक्षित बच गए।

किसी को नहीं देखा, शोर पर हुई जानकारी : अमरजीत के घर के पास ही एक व्यक्ति का पोल्ट्री फार्म है। ऐसे में घर के पास तक बाइक आने का रास्ता है। घटना के दौरान आसपास के कुछ लोग जाग भी रहे थे। इसके बाद भी लोगों ने वहां किसी को आते-जाते नहीं देखा। दंपती के शोर मचाने पर लोग पहुंचे तो उन्हें घटना की जानकारी हो सकी।

संबंधित खबरें