DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कहीं इंसान के लिए खतरा न बन जाए घायल बाघ

कहीं इंसान के लिए खतरा न बन जाए घायल बाघ

पीलीभीत टाइगर रिजर्व के माला रेंज की वनकटी और धामेला वीट में एक तीन साल का बाघ घायल अवस्था में घूम रहा है। इस बाघ को इलाज के लिए लखनऊ भेजने के लिए वन अधिकारियों ने अपनी संस्तुति की है। लेकिन अभी तक मुख्य वन्यजन्तु प्रतिपालक की ओर से कोई आदेश नहीं आया है। हालांकि वन संरक्षक का कहना है कि राष्ट्रीय बाघ संरक्षण परिषद के नियमों के अनुसार बाघ को प्राकृतिक रूप में रहने का अधिकार है। इसे हटाया जाना संभव नहीं है। पीलीभीत टाइगर रिजर्व में माला रेंज की वनकटी और धामेला वीट में घूम रहे एक बाघ के घायल होने का पहला चित्र बाघों की स्थिति जानने के लिए लगाये ट्रेपिंग कैमरे में आया था। इसके अलावा एक चीनी मिल के गन्ना अधिकारी ने भी जंगल भ्रमण के दौरान घायल बाघ की एक वीडियो तैयार कर पीलीभीत टाइगर रिजर्व के अधिकारियों को इसकी जानकारी दी थी। इस सूचना पर पीलीभीत टाइगर रिजर्व के अधिकारियों ने जब लगाए कैमरे के चित्र देखे तो स्थिति सामने आई कि लगभग तीन साल के एक बाघ के पिछले हिस्से के सीधा पंजा बुरी तरह सूजा हुआ है। डीएफओ कैलाश प्रकाश ने इस संबंध में बरेली के वन संरक्षक, मुख्य वन संरक्षक और मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक को पत्र भेजकर आग्रह किया कि इस बाघ को बचाने के लिए आवश्यक है कि इसे बाघ विशेषज्ञ डॉ.उत्कर्ष शुक्ला और उनकी टीम भेजकर इसे ट्रेंकुलाइज करा दिया जाए और इसको लखनऊ के प्राणी उद्यान में इसका इलाज किया जाए। इस पत्र पर मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक उमेंद्र शर्मा ने मुख्य वन संरक्षक और वन संरक्षक से इस संबंध में विस्तृत रिपोर्ट मांगी। इस पर पीलीभीत टाइगर रिजर्व के प्रभागीय वनाधिकारी ने फिर से रिपोर्ट भेजी। हालांकि इस रिपोर्ट में स्पष्ट किया कि यदि बाघ का इलाज नहीं किया गया तो यह नरभक्षी भी बन सकता है, जब यह शिकार करने की स्थिति में नहीं होगा तो इससे यह खतरा बढ जाएगा। इधर इस संबंध में वन संरक्षक बरेली वीके सिंह का कहना है कि राष्ट्रीय बाघ संरक्षण परिषद के नियमानुसार बाघ को प्राकृतिक वास से बाहर नहीं लाया जा सकता। हमने अपनी रिपोर्ट भेज दी है। इधर इस मामले को लेकर स्थानीय वन्यजीव प्रेमियों ने राष्ट्रीय बाघ संरक्षण परिषद के अध्यक्ष और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ज्ञापन भेजने का निर्णय लिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Wounded Tigers Will not Be Dangerous To Humans