DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आज की पत्रकारिता काफी दुरूह : डीएम

आज की पत्रकारिता काफी दुरूह : डीएम

डीएम डा.अखिलेश मिश्र ने कहा है कि आज पत्रकारिता एक अच्छा पेशा है, लेकिन इसमें कुछ सुधार की आवश्यकता है। आत्मालोचना करने की जरूरत है। कहा कि अंधेरों में चिराग जलाने की आवश्यकता है। यह चिराग अंधेरा दूर करेगा।

सकारात्मक नजरिया अपनाने से निश्चित रूप से परिवर्तन आएगा। डीएम शहर के जिला पंचायत सभागार में प्रेस क्लब और हॉबीज हैरिटेज इंडिया सोसायटी के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित पत्रकारिता दिवस एवं सम्मान समारोह और समाचार पत्र प्रदर्शनी में बतौर मुख्य अतिथि संबोधन कर रहे थे। डीएम डा. मिश्रा ने अपनी काव्यात्मक शैली में कहा कि अंधेरों के खिलाफ एक चिराग की जरूरत है। चिराग जलता रहे। एक कहानी सुनाते हुए उन्होंने कहा कि यदि हम चुप रहेंगे तो यह घातक है।

आज की पत्रकारिता दुरूह किस्म की हो गई है। हम अगर सकारात्मक नजरिया रखेंगे तो निश्चित रूप से सफलता की और अग्रसर होंगे। इससे पहले उन्होंने हॉबीज हैरिटेज इंडिया सोसायटी के तत्वावधान में आयोजित समाचार पत्र प्रदर्शनी का विधिवत फीता काटकर उदघाटन किया। उनके साथ सिटी मजिस्ट्रेट पूनम निगम भी थी। इस प्रदर्शनी में कलीम अतहर खां ने एक हजार से अधिक देशी और विदेशी समाचार पत्रों की प्रदर्शनी लगाई थी। डीएम ने कहा कि पीलीभीत जैसी छोटी जगह में यह प्रदर्शनी एक उपलब्धि हैं, उन्होंने कलीम अतहर खां को इस प्रदर्शनी के लिए प्रमाणपत्र देकर सम्मानित किया।

इस अवसर पर मेधावी छात्रों यश शुक्ला, सिमरजीत कौर, रेनू, महिमा गुप्ता, अंशिका श्रीवास्तव, देवांश अग्रवाल और नेत्रहीन शिवकुमार को सम्मानित किया गया। इन सभी ने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद की इंटर की परीक्षा में जिला टॉप किया है। संगोष्ठी का आरंभ वरिष्ठ अधिवक्ता विद्याधर पांडेय ने किया। उन्होंने कहा कि आज पत्रकारिता के स्तर पर बहस हो रही है, लेकिन हम वास्तविक तथ्यों को नजरअंदाज करते हैं। पत्रकारिता आज भी अपने मानदंड के अनुरूप कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता ने जिले मे अपना एक स्थान बनाया है, वो इस पर कायम है।

विद्याधर पांडेय ने संक्षेप में मीडिया की वास्तवित स्थिति को उजागर किया। व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष अफरोज जीलानी ने कहा कि आज पत्रकारिता की जो भी स्थिति हो लेकिन पीलीभीत की पत्रकारिता आज भी उज्ज्वल है। उन्होंने कहा कि जो देखा वो लिखा की परिपाटी को यहां की पत्रकारिता कर रही है। समाजसेवी सतीश जायसवाल ने कहा कि उन्होंने कई बार स्थानीय पत्रकारों की स्थिति को सुधारने का प्रयास किया, लेकिन यहां की पत्रकारिता ने उनके सुझाव को ठुकराया।

उन्होने कहा कि पीलीभीत की पत्रकारिता अपने आप में श्रेष्ठ हैं। पूर्व मंत्री हेमराज वर्मा ने कहा कि पीलीभीत की पत्रकारिता हमेशा श्रेष्ठ रही है। इसमें कोई दो राय नहीं है। उन्होंने कहा कि पीलीभीत इस मामले में श्रेष्ठ है। उन्होंने कहा कि आज पत्रकारिता की जिम्मेदारी बढ़ गई हैं। सोशल मीडिया भले ही कितनी आगे पहुंच गई हो, लेकिन आदमी अखबार पढ़कर ही विश्वास करता है। पूर्व मंत्री अनीस अहमद खां ने कहा कि पत्रकारों को स्वयं अपनी समस्याओं का समाधान करना होगा। कोई बाहरी व्यक्ति इसका समाधान नहीं कर सकता। गोष्ठी में सपा जिलाध्यक्ष आनंद सिंह यादव, अनिल महेंद्रू, जहीर खां, डा.वीरेंद्र श्रीवास्तव, जिला क्रीड़ा अधिकारी प्रदीप चैहान, एसपीएस संधू आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Today's journalism is quite tough : DM