Three brick kiln seals of Amariah if found in the investigation - जांच में गड़बड़ी मिलने पर अमरिया के तीन ईंट भट्ठा सीज DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जांच में गड़बड़ी मिलने पर अमरिया के तीन ईंट भट्ठा सीज

जांच में गड़बड़ी मिलने पर अमरिया के तीन ईंट भट्ठा सीज

तीन ईंट भट्ठा संचालकों को मनमारी करना भारी पड़ गया। यह संचालक मानकों को दरकिनार कर अवैध तरीके से ईंट भट्ठे का संचालक कर रहे थे। जांच में इसकी पोल खुलने पर डीएम ने तीनों भट्ठों को तत्काल प्रभाव से सीज कर दिय है। प्रशासन की इस कार्रवाई से अन्य भट्ठा संचालकों में हड़कंप मच गया।

भट्ठों की मनमानी की शिकायतें जिला प्रशासन के पास पहुंची। इसको ध्यान में रखते हुए डीएम वैभव श्रीवास्तव ने जांच के लिए एक कमेटी गठित की। गुरुवार को जांच कमेटी अमरिया क्षेत्र के तीन भट्ठों मैसर्स ब्रीक फील्ड ग्राम हर्रायपुर अमरिया, मैसर्स रजा ब्रीक उद्योग नसावां अमरिया और मैसर्स सिंह ब्रीक फील्ड ग्राम सरैनी तिरकुनिया का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान तीनों ईंट भट्ठा संचालित पाए गए, पर किसी प्रकार के दस्तावेज नहीं मिले। निरीक्षण के दौरान भट्ठा संचालकों ने मिट्टी खनन के लिए पर्यावरण, स्वच्छता प्रमाण पत्र एवं ईंट भट्ठा संचालन के लिए राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से सहमति, जल एवं वायु से संबन्धित किसी भी प्रकार के अभिलेख नहीं दिखा सके।

जारा ब्रीक फील्ड के प्रतिनिधि फिरोज अली ने बताया कि अभिलेख उनके पास नही हैं। भट्टे पर लगभग आठ लाख पक्की ईंट, एक लाख कच्ची ईंट मौके पर पाई गई। इसी प्रकार मैसर्स सिंह ब्रीक फील्ड के प्रतिनिधि रईस अहमद ने भी कोई दस्तावेज प्रस्तुत नहीं किए। यहां पर 50 हजार पक्की ईंटे व 10 हजार कच्ची ईंटे पाई गई। मैसर्स रजा ब्रीक फील्ड उद्योग के मोहम्मद यूसुफ के पास भी किसी भी प्रकार के कोई अभिलेख नहीं मिले। मौके पर लगभग आठ लाख पक्की ईंटे व लगभग 60 हजार कच्ची ईंट पाई गई। साथ ही सभी भट्टा प्रतिनिधियों ने स्टाक रजिस्टर मांगे जाने पर भी प्रस्तुत नहीं किया। जांच टीम ने यह रिपोर्ट डीएम वैभव श्रीवास्तव को भेजी। इस पर डीएम ने तीनों भट्ठों को तत्काल प्रभाव से सीज कर दिया।

इन्होंने किया निरीक्षण

डीएम के निर्देश पर गुरुवार को जिला खनन अधिकारी अखिलेश कुमार राय, नायब तहसीलदार शेर बहादुर सिंह, वैज्ञानिक सहायक उ.प्र. पर्यावरण नियंत्रण बोर्ड बरेली के सुनील कुमार ने संयुक्त ने संयुक्तरूप से भट्ठों की जांच की। यह टीम डीएम के निर्देश पर निरीक्षण करने पहुंची थी।

ईंट कम हुईं तो खैर नहीं

ईंट भट्ठों को सीज करने के साथ ही साथ ईंट भट्ठा प्रतिनिधियों को चेतावनी दी गई कि निरीक्षण के दौरान ईंट भट्ठों पर मिली ईंटों की यथास्थित बनाए रखे। ईंटों का न तो बिक्री करें और न ही इन्हें इधर से उधर किया जाए। अगर किसी भी भट्टे ईंट इधर उधर हुई तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

और भी संचालित हैं अवैध भट्ठे

जिले में 150 से अधिक ईट भट्ठे हैं। इसमें अधिकत्तर भट्ठा संचालक अपनी मनमानी करते हैं, पर प्रशासन की ओर से न तो कोई जांच कराई जाती है और न ही कोई कार्रवाई। ऐसे में भट्ठा संचालक अपनी और मनमानी करने लगते हैं। मौजूदा समय में अगर सभी भट्ठों की जांच की जाएगी तो बड़ा फर्जीवाड़ा उजागर हो सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Three brick kiln seals of Amariah if found in the investigation