DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › पीलीभीत › कई ग्रामीणों के घरों में नहीं जले चूल्हे, दहशत में गुजारी सारी रात
पीलीभीत

कई ग्रामीणों के घरों में नहीं जले चूल्हे, दहशत में गुजारी सारी रात

हिन्दुस्तान टीम,पीलीभीतPublished By: Newswrap
Wed, 01 Sep 2021 03:50 AM
कई ग्रामीणों के घरों में नहीं जले चूल्हे, दहशत में गुजारी सारी रात

शारदा नदी का जलस्तर बढ़ने से पौन दर्जन से अधिक गांवों में पानी घुस गया। इससे ग्रामीणों के घरों में चूल्हे नहीं जल सके। कई परिवारों को भूखे रहकर रात गुजारनी पड़ी। वहीं गांवों में और पानी बढ़ने की आशंका के चलते ग्रामीणों को सारी रात बाढ़ की दहशत में काटनी पड़ी। सुबह पानी कम होने पर उन्होंने राहत की सांस ली। अब कटान शुरू होने की आशंका को लेकर ग्रामीण परेशान दिखाई दे रहे हैं।

सोमवार की दोपहर बनबसा बैराज से 2.55 लाख क्यूसेक पानी रिलीज हुआ। शाम तक पूरनपुर और कलीनगर तहसील क्षेत्र के गांव नगरिया खुर्दकलां, गोरख डिब्बी, कटकवारा, सिमरा, राजपुर, बुझिया, राहुलनगर, कालोनी नंबर छह सहित पौन दर्जन से अधिक गांवों में पानी पहुंच गया। लोग घरों से सामान समेटकर ऊंचे स्थानों पर पहुंचाने लगे। देर रात शारदा नदी उफनाने लगी। घरों के अंदर और बाहर तक पानी भरने कई ग्रामीणों के घरों में चूल्हे नहीं जले। इससे उनको भूखा रहना पड़ा। वहीं नदी का जलस्तर और बढ़ने से गांव में बाढ़ आने की आशंका को लेकर ग्रामीणों को सारी रात जागकर काटनी पड़ी। बार बार ग्रामीण यही देखते रहे कि कहीं पानी तो नहीं बढ़ रहा है। मंगलवार की सुबह जलस्तर में गिरावट आने पर ग्र्रामीणों ने राहत की सांस ली है। हालांकि गांवों में पानी भरने से ग्रामीण परेशान हैं। पशुओं के चारे का भी संकट आने लगा है। इधर, ग्रामीणों का कहना है कि शारदा नदी के जलस्तर में गिरावट आने से गांवों में भरा पानी धीरे धीरे कम हो रहा है। नदी का जलस्तर कम होने से कटान की संभावना जताई जा रही है। ग्रामीणों का आरोप है कि जिम्मेदार बाढ़ और कटान से ग्रामीणों को बचाने के लिए ध्यान नहीं दे रहे हैं। इससे उनमें जिम्मेदारों के खिलाफ नाराजगी देखी जा रही है।

....

कलीनगर तहसील क्षेत्र के गांव में बाढ़ जैसे हालात नहीं हैं। कुछ निचले हिस्से में पानी भरा था जो अब उतर गया है। परिवारों में भोजन न बनने वाली स्थिति नहीं है।

योगेश गौड़

उप जिलाधिकारी, कलीनगर

----

कालोनी नंबर छह में कम नहीं हुआ पानी

पूरनपुर। शारदा नदी किनारे बसे गांव कालोनी नंबर छह के ग्रामीणों को बाढ़ की समस्या से निजात नहीं मिल पा रही है। यह गांव राहुलनगर और चंदिया हजारा के पास है।

शारदा में जलस्तर बढ़ते ही गांव में पानी घुस जाता है। जो कई दिनों तक भरा रहता है। आरोप है कि इस समस्या को लेकर ग्रामीणों ने कई बार विभाागीय अधिकारियों के अलावा डीएम को भी अवगत कराया लेकिन ध्यान नहीं दिया गया। सोमवार को नदी का जलस्तर बढ़ने से गांव में फिर पानी घुस गया। घरों के अंदर और बाहर तक दूसरे दिन मंगलवार को भी पानी भरा रहा। इससे ग्रामीणों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि नदी के जलस्तर में भारी गिरावट आने के बाद ही उनके गांव में भरा पानी कम होगा।

संबंधित खबरें