DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गलतफहमी में हो गई थी गर्मागर्मी, अब हुआ समझौता

गलतफहमी में हो गई थी गर्मागर्मी, अब हुआ समझौता

कोर्ट परिसर में हुए शहर कोतवाल और अधिवक्ता विवाद का बुधवार को पटाक्षेप हो गया। एसपी कार्यालय में एएसपी की मौजूदगी में ही अधिवक्ताओं और कोतवाल के बीच वार्ता हुई। इसमें आखिरकार कार अधिवक्ताओं का ही पलड़ा भारी रहा।

इंस्पेक्टर कोतवाली की ओर से गलतफहमी होने की बात स्वीकार करने पर अधिवक्ताओं का रुख नरम हुआ और इस मामले का अब पटाक्षेप करने पर सहमति बन गई। इसके बाद अधिवक्ताओं ने गुरुवार से न्यायिक कार्य शुरू करने की घोषणा कर दी।

सोमवार को कोर्ट परिसर में इंस्पेक्टर कोतवाली और एक अधिवक्ता के बीच कहासुनी हो गई थी। इसमें अधिवक्ता ने कोतवाल पर मारपीट करने का आरोप लगाया था। कोर्ट परिसर में पुलिस की इस हिमाकत पर अधिवक्ता भड़क उठे और हड़ताल शुरू कर दी। आरोपी इंस्पेक्टर के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर अधिवक्ता मंगलवार को हड़ताल पर रहे।

इस मामले को लेकर अधिवक्ताओं में बढ़ते आक्रोश को देखते हुए बुधवार को दोनों पक्षों की ओर से इसके समाधान की रणनीति बनी। दोपहर बाद एएसपी रोहित मिश्र, सीओ सिटी धर्म सिंह मार्छाल की मौजूदगी में कोतवाल और अधिवक्ताओं के बीच एएसपी कार्यालय में ही वार्ता बुलाई गई। दोनों पक्षों ने इस मामले को गलतफहमी मानकर समझौता कर लिया। जिला संयुक्त बार एसोसिएशन के महासचिव महेश चंद्र शर्मा ने बताया कि गुरुवार से अदालती कामकाज शुरू कर दिया जाएगा।

इस दौरान संयुक्त बार एसोसिएशन के अध्यक्ष किशनलाल, महासचिव महेश चंद्र शर्मा, मोहतसिम मलिक, एजाज अहमद, राजकुमार, मुस्ताक अली,सेंट्रल बार एसोसिएशन के अध्यक्ष शिव शर्मा, सचिव सैयद उरूज, एडवोकेट अश्विनी अग्निहोत्री, पूर्व सचिव विमल वर्मा, सिविल बार एसोएिशन के सचिव उपस्थित रहे। सीओ सिटी धर्म सिंह मार्छाल ने बताया कि अब दोनों पक्षों में आपसी समझौता हो गया है।

अधिवक्ताओं के समर्थन में पूरनपुर के अधिवक्ता हुए लामबंद

पूरनपुर। बुधवार को प्रगतिशील अधिवक्ता एसोसिएशन की बैठक हुई। इसकी अध्यक्षता एसो. के अध्यक्ष संजय सक्सेना ने की। बैठक में कहा गया कि पीलीभीत के वकील के साथ सदर कोतवाल ने अभद्रता की है। पीलीभीत में सभी वकील कोतवाल को हटाने की मांग पर अड़े हुए हैं। इसको लेकर सभी वकील न्यायिक कार्य नहीं कर रहे हैं। बैठक में पीलीभीत के वकीलों का समर्थन करने की बात कही और वकील से हुई मारपीट पर निंदा की गई।

बैठक के बाद सभी अधिवक्ता जुलूस की शक्ल में तहसील में पहुंचे और मांगों को लेकर नायब तहसीलदार को ज्ञापन दिया। इसमें पीलीभीत एसपी से सदर कोतवाल के खिलाफ कार्रवाई एवं निलंबन की मांग की गई। अधिवक्ताओं ने कोतवाल के खिलाफ कार्रवाई न होने तक न्यायिक कार्यों से विरत रहने की बात कही। सदर कोतवाल के खिलाफ अधिवक्ताओं में काफी आक्रोश देखा जा रहा है।

ज्ञापन देने वालों में एसो. के अध्यक्ष संजय सक्सेना, वरिष्ठ उपाध्यक्ष विश्वनाथ शुक्ला, महामंत्री विकासचंद्र सक्सेना, मोहम्मद यूनुस खां, संजय कुमार पांडेय, प्रणय सक्सेना, नईम खां, अरजिन्दर सिंह महल, इफ्तखार खान, कौशलेंद्र भदौरिया, प्रदीप सक्सेना, संजय विश्वास, प्रभात सक्सेना, दुर्गेश सक्सेना, फखरुल इस्लाम मंजरी, देवेंद्र कुमार, फजल अहमद, मोहम्मद शाहिद खां, मोहम्मद मियां, कामरान खां सहित काफी संख्या में अधिवक्ता मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The Advocate who was on strike on the second day entered into the afternoon