DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूरनपुर तहसीलदार के पास नहीं अपनी कार, चल रहे अफसर के वाहन से

पूरनपुर तहसीलदार के पास नहीं अपनी कार, चल रहे अफसर के वाहन से

विभागीय गाड़ी क्षतिग्रस्त होने पर नवागत तहसीलदार पशु पालन विभाग की गाड़ी से काम चला रहे हैं। पशु पालन विभाग के स्लोगन से रंगी पुती गाड़ी में बैठकर जाने से लोगों में असमंजस की स्थिति बनी रहती है। तहसीलदार के पशु पालन विभाग की गाड़ी का उपयोग क रना काफी चर्चा का विषय बना हुआ है।

अगर तहसील क्षेत्र में किसी को राह चलते पशु पालन विभाग की गाड़ी मिल जाए तो उसमें सवार अधिकारी को विभाग का डाक्टर समझने की भूल न करे। पशु पालन विभाग लिखी इस गाड़ी में तहसीलदार भी हो सकते हैं। कुछ दिन पहले ही तहसीलदार राकेश कुमार मौर्य ने पूरनपुर का चार्ज संभाला है। विभागीय गाड़ी न होने से वह पशु पालन विभाग की गाड़ी का उपयोग कर रहे हैं। विभागीय बैठक और अन्य कार्यों में वह उसी गाड़ी से आते-जाते हैं। पशु पालन विभाग की इस गाड़ी के चारों ओर पशु पालन विभाग काफी बड़े बड़े अक्षरों में लिखा हुआ है। इसके अलावा गाड़ी के चारों ओर पशु पालन विभाग की योजनाएं भी लिखी हुई हैं। तहसलीदार के गाड़ी में बैठकर जाने पर लोग उन्हें पशु पालन विभाग के अधिकारी समझाते हैं। जल्द ही पूरनपुर में ज्वाइन करने से लोग अभी उनसे भली भांति परिचित भी नहीं हैं। ऐसे में तहसीलदार के कहीं जाने पर पर लोगों में भ्रम बना रहता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Tehsildar working for the cattle rearing department