ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश पीलीभीतबच्चों की क्षमता के अनुरूप लक्ष्य निर्धारण किया जाए : डीआईओएस

बच्चों की क्षमता के अनुरूप लक्ष्य निर्धारण किया जाए : डीआईओएस

ड्रमंड राजकीय इंटर कालेज में जनपदभर के राजकीय, सहायता प्राप्त स्कूलों के प्रधानाचार्यों की बैठक आयोजित की गई,जिसमें बोर्ड परीक्षा में आए परीक्षाफल...

बच्चों की क्षमता के अनुरूप लक्ष्य निर्धारण किया जाए : डीआईओएस
हिन्दुस्तान टीम,पीलीभीतWed, 15 May 2024 12:45 AM
ऐप पर पढ़ें

पीलीभीत, संवाददाता। ड्रमंड राजकीय इंटर कालेज में जनपदभर के राजकीय, सहायता प्राप्त स्कूलों के प्रधानाचार्यों की बैठक आयोजित की गई,जिसमें बोर्ड परीक्षा में आए परीक्षाफल की समीक्षा की गई। आने वाली बोर्ड परीक्षा में बेहतर करने की रणनीति बनाई गई। प्रधानाचार्यों को खुद ही क्लास रूम में पीरियड पढ़ाने के निर्देश दिए।
बोर्ड परीक्षा के परीक्षाफल की बैठक की अध्यक्षता डीआईओएस गिरजेश कुमार चौधरी ने की। जनपदभर के राजकीय, सहायता प्राप्त और वित्तविहीन स्कूलों के प्रधानाचार्यों के कार्यों की सराहना की। जनपद की मेरिट सूची में आने वाले स्कूलों के प्रधानाचार्यों को बधाई दी गई। राजकीय हाईस्कूल ईंटगांव के प्रधानाध्यापक सुरेश चंद्र वर्मा ने स्कूल में शिक्षण कार्य की विधियों पर विस्तार से प्रकाश डाला। इस स्कूल की छात्रा ने मेरिट में स्थान बनाया। राजकीय इंटर कालेज पौटा कलां के प्रधानाचार्य डॉ.अजय कुमार सक्सेना ने बोर्ड परीक्षा के रिजल्ट के बारे में बताया। आर्य कन्या इंटर कालेज, गुरुनानक इंटर कालेज पूरनपुर, सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज बीसलपुर के उप प्रधानाचार्य, अंगूरी देवी सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज की प्रधानाचार्य उपासना शर्मा, चिरौंजीलाल वीरेंद्रपाल सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज के प्रधानाचार्य चंद्रभान शर्मा, राजकीय बालिका इंटर कालेज पूरनपुर की प्रधानाचार्य जाहिदा खातून आदि ने कालेज के बेहतर आए रिजल्ट के बारे में बताया। डीआईओएस चौधरी ने बताया कि सभी प्रधानाचार्य क्लास रूम में अपना पीरियड लेकर बच्चों को पढ़ाएं। हाईस्कूल में प्रैक्टिकल कराएं, तभी बच्चों में रोचकता आएगी। मंथली टेस्ट के बाद पीटीएम कराकर बच्चे की स्थिति के बारे में बताया जाना चाहिए। सभी स्कूलों में प्रार्थना सभा अच्छी हो। उन्होंने कहा कि कमजोर बच्चों को गोद लेकर शैक्षिक सपोर्ट देना चाहिए, तभी बच्चे आगे बढ़ सकेंगे। बच्चों की क्षमता का आंकलन कर लक्ष्य निर्धारण करें,तभी मेरिट सूची में नाम दर्ज करा पाएंगे। अगर स्कूल में बच्चे कई दिन तक नहीं आए, तो कक्षाध्यापक फोन करें। उन्होंने कहा कि स्कूलों में मोटीवेशनल स्पीच के कार्यक्रम होते रहे। इस मौके पर ड्रमंड कालेज के प्रधानाचार्य संतोष कुमार, उप प्रधानाचार्य लोकेश कुमार, डॉ.राजेंद्र प्रसाद द्विवेदी, डॉ.जावेद अहमद, डॉ.आरपी गंगवार, संजय गंगवार, जाहिदा खातून, भारती दीक्षित, सौम्या गुप्ता, शोभा, सुरेश चंद्र वर्मा आदि प्रधानाचार्य मौजूद रहे।

---

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।