DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हिंदी से सरल और मधुर दूसरी भाषा नहीं : डॉ. सुशील

हिंदी से सरल और मधुर दूसरी भाषा नहीं : डॉ. सुशील

बीसलपुर डिग्री कालेज में हिंदी दिवस पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी का शुभारंभ प्राचार्य डा. सुशील कुमार ने मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रजजवलित कर किया। डॉ. चंद्रप्रभा गंगवार ने हिंदी भाषा के प्रयोग एवं इसके इतिहास पर प्रकाश डाला। डॉ. विकास प्रधान ने कहा कि हमे शर्म का दामन छोड़कर हिंदी को गर्व से अपनाना चाहिए। प्राचार्य डॉ. सुशील कुमार ने कहा कि हिंदी को समाज में आज भी उतना ही सम्मान मिलता है जितना पहले मिलता था। हिंदी के अत्याधिक प्रयोग को देखते हुए आज हिंदी में ब्लॉग एवं ई-समाचार पत्रों का प्रयोग बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि हिंदी भाषा की कनिष्ठता को हटा दिया जाए तो उससे कोई मधुर भाषा नहीं है। डॉ. सुनीत साहनी, डॉ. अल्का मेहरा उपस्थित रही। संचालन डॉ. दरख्शा अजहर ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Simple and sweet second language from Hindi Dr Sushil