DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  पीलीभीत  ›  इंदिरा हृदयेश की ननिहाल में शहर से गांव तक उदासी
पीलीभीत

इंदिरा हृदयेश की ननिहाल में शहर से गांव तक उदासी

हिन्दुस्तान टीम,पीलीभीतPublished By: Newswrap
Mon, 14 Jun 2021 03:40 AM
इंदिरा हृदयेश भले ही कांग्रेस के लिए बड़ी नेता थीं पर पीलीभीत में अपनी ननिहाल में वे हमेशा एक बच्ची की तरह रहीं। आज उनकी ननिहाल पीलीभीत के जमुनिया...
1 / 2इंदिरा हृदयेश भले ही कांग्रेस के लिए बड़ी नेता थीं पर पीलीभीत में अपनी ननिहाल में वे हमेशा एक बच्ची की तरह रहीं। आज उनकी ननिहाल पीलीभीत के जमुनिया...
इंदिरा हृदयेश भले ही कांग्रेस के लिए बड़ी नेता थीं पर पीलीभीत में अपनी ननिहाल में वे हमेशा एक बच्ची की तरह रहीं। आज उनकी ननिहाल पीलीभीत के जमुनिया...
2 / 2इंदिरा हृदयेश भले ही कांग्रेस के लिए बड़ी नेता थीं पर पीलीभीत में अपनी ननिहाल में वे हमेशा एक बच्ची की तरह रहीं। आज उनकी ननिहाल पीलीभीत के जमुनिया...

पीलीभीत। वरिष्ठ संवाददाता

इंदिरा हृदयेश भले ही कांग्रेस के लिए बड़ी नेता थीं पर पीलीभीत में अपनी ननिहाल में वे हमेशा एक बच्ची की तरह रहीं। आज उनकी ननिहाल पीलीभीत के जमुनिया गांव से शहर तक के मोहल्ले उदास है। इंदिरा हृदयेश ने यहां जीजीआईसी से ही इंटर व हाईस्कूल की परीक्षा पास की थी।

कलीनगर के अंतर्गत जमुनिया की निवासी रमा पाठक का विवाह आचार्य टीकाराम से हुआ था। उनकी बेटी इंदिरा हृदयेश कांग्रेस की इतनी बड़ी नेता बनेंगी, यह किसी को भान तक न था। हृदयेश का काफी बचपन पीलीभीत में बीता। उनकी दसवीं और बारहवी की पढ़ाई जीजीआईसी से हुई थी। सहेली रागिनी सिंह भी उनके निधन से असहज हैं। जमुनिया के नामचीन रामस्वरूप शर्मा की बेटी अंजू शर्मा बताती हैं कि जैसे ही फोन आया, सभी स्तब्ध रह गए। बडे भाई बरेली से हल्द्वानी के लिए निकल गए हैं। स्प्रिंगडेल कॉलेज में टीजीटी इंग्लिश की लेक्चरर अंजू शर्मा बोलीं कि दीदी के जाने से पूरा परिवार परेशान हैं। उन्होंने उस वक्त में राजनीति में कदम रखा था जब महिलाओं का घर से बाहर निकलना अच्छा नहीं माना जाता था। पर दीदी ने नए प्रतिमान गढ़े।

पीलीभीत का नाम ही काफी

जब पहली बार वे शिक्षक विधायक बनीं तो पीलीभीत में कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष रहे सुधीर तिवारी उनके संपर्क में आए। केवल पीलीभीत से जुड़ाव के कारण तिवारी उनके आवास पर लखनऊ में करीब एक से डेढ साल तक रहे और राजनीतिक गतिविधियों को मुकाम तक पहुंचाया।

कांग्रेस नेता के निधन पर शोक

जिला कांग्रेस कमेटी कार्यालय पर रविवार को जिलाध्यक्ष हरप्रीत सिंह चब्बा की अध्यक्षता में उनके निधन पर दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गई। इसमें पूर्व जिलाध्यक्ष सुधीर तिवारी, मुनेंद्र सक्सेना समेत तमाम अन्य कांग्रेसी रहे।

संबंधित खबरें