DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  पीलीभीत  ›  कोविड संक्रमित सूची में नाम दर्ज कराने को लगा रहे दौड़

पीलीभीतकोविड संक्रमित सूची में नाम दर्ज कराने को लगा रहे दौड़

हिन्दुस्तान टीम,पीलीभीतPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 03:41 AM
कोविड संक्रमित सूची में नाम दर्ज कराने को लगा रहे दौड़

पीलीभीत। संवाददाता

जीवन का अमूल्य समय गंवाने के बाद कुछ हासिल नहीं होता है, तो बहुत ही अफसोस लगता है। अपना ही हक मांगने के लिए परिजनों को मैराथन दौड़ लगाने के मजबूर होना पड़ेगा, तो कहां का न्याय है। ललौरीखेड़ा ब्लाक क्षेत्र के वैदिक जूनियर हाईस्कूल के शिक्षक की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई। अब शिक्षक का नाम कोरोना सूची में दर्ज कराने के लिए साथी शिक्षक और परिजन दौड़भाग कर रहे हैं। इसी वजह से मृत शिक्षक के परिजन को किसी प्रकार की क्लेम की धनराशि नहीं मिल सकी है। ऐसे में परिवार के सदस्य आर्थिक संकट से गुजरने को मजबूर हो रहे हैं।

त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन में ड्यूटी करने के बाद कोरोना संक्रमित शिक्षक-शिक्षिकाओं की मौत की संख्या दो दर्जन तक पहुंची है। अभी बेसिक शिक्षा विभाग के पास 11 शिक्षकों के कोरोना से मौत का डाटा उपलब्ध है। कोरोना संक्रमित से मौत के सुबूत जुटाने में मृत शिक्षकों के परिजन और शिक्षक संघ के पदाधिकारी जुटे हुए हैं। इसी कारण मृत शिक्षकों का नाम कोरोना संक्रमित सूची में दर्ज नहीं हो पा रहा है। ललौरीखेड़ा ब्लाक क्षेत्र के वैदिक जूनियर हाईस्कूल जतीपुर मगरासा में सहायक अध्यापक पद पर नौनीराम सागर कार्यरत थे, जिनकी ड्यूटी पंचायत चुनाव में लगी थी। 26 अप्रैल को पंचायत चुनाव कराने के बाद वह कोरोना संक्रमित हो गए थे। बुखार आने के बाद उनकी हालत बिगड़ी। इस पर परिजनों ने नवाबगंज के एक निजी अस्पताल ले गए, जहां गेट पर ही शिक्षक ने 19 मई को दमतोड़ दिया। मृत शिक्षक जहानाबाद थाना क्षेत्र के गांव वारनवादा का रहने वाला है। परिवार में पत्नी मीरा देवी और चार बेटे हैं, जो बेरोजगार हैं। परिवार के पास खेतीबाड़ी की जमीन नहीं है। ऐसे में परिवार का पालन पोषण का संकट खड़ा हो गया है। मृत शिक्षक का नाम कोरोना संक्रमित सूची में दर्ज नहीं है। सूची में मृतक का नाम दर्ज कराने के लिए भागदौड़ करने के लिए मजबूर हो रहे हैं। अभी तक मृत शिक्षक के परिवार को किसी प्रकार के क्लेम की धनराशि का भुगतान नहीं हुआ है। उत्तर प्रदेश सीनियर बेसिक शिक्षक संघ और परिजनों ने बीएसए से आर्थिक सहायता दिए जाने की मांग की है।

कोविड-19 के कोरोना संक्रमण की वजह से सहायक अध्यापक नोनीराम सागर की मृत्यु हो गई। मृत शिक्षक का नाम कोरोना संक्रमित सूची में दर्ज कराने के लिए बीएसए को प्रार्थनापत्र दिया गया है। ताकि मृत शिक्षक के परिवारीजनों को आर्थिक सहायता मिल सकेगी। अभी तक कोई धनराशि नहीं मिली है।

-डीपी गंगवार, जिला मंत्री

उप्र सीनियर बेसिक शिक्षक संघ,पीलीभीत।

संबंधित खबरें