DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पश्चिम बंगाल की घटना को लेकर बंद रहे निजी अस्पताल

पश्चिम बंगाल की घटना को लेकर बंद रहे निजी अस्पताल

1 / 4पश्चिम बंगाल की घटना से पूरे देश के डाक्टरों में आक्रोश है। जिले में भी डाक्टर काली पट्टी बांधकर काम कर रहे हैं। इस मामले में कार्रवाई की मांग को लेकर आईएमए के आह्वान पर सोमवार को निजी अस्पतालों में...

पश्चिम बंगाल की घटना को लेकर बंद रहे निजी अस्पताल

2 / 4पश्चिम बंगाल की घटना से पूरे देश के डाक्टरों में आक्रोश है। जिले में भी डाक्टर काली पट्टी बांधकर काम कर रहे हैं। इस मामले में कार्रवाई की मांग को लेकर आईएमए के आह्वान पर सोमवार को निजी अस्पतालों में...

पश्चिम बंगाल की घटना को लेकर बंद रहे निजी अस्पताल

3 / 4पश्चिम बंगाल की घटना से पूरे देश के डाक्टरों में आक्रोश है। जिले में भी डाक्टर काली पट्टी बांधकर काम कर रहे हैं। इस मामले में कार्रवाई की मांग को लेकर आईएमए के आह्वान पर सोमवार को निजी अस्पतालों में...

पश्चिम बंगाल की घटना को लेकर बंद रहे निजी अस्पताल

4 / 4पश्चिम बंगाल की घटना से पूरे देश के डाक्टरों में आक्रोश है। जिले में भी डाक्टर काली पट्टी बांधकर काम कर रहे हैं। इस मामले में कार्रवाई की मांग को लेकर आईएमए के आह्वान पर सोमवार को निजी अस्पतालों में...

PreviousNext

पश्चिम बंगाल की घटना से पूरे देश के डाक्टरों में आक्रोश है। जिले में भी डाक्टर काली पट्टी बांधकर काम कर रहे हैं। इस मामले में कार्रवाई की मांग को लेकर आईएमए के आह्वान पर सोमवार को निजी अस्पतालों में हड़ताल रही। सभी प्राइवेट अस्पतालों के गेट पर ताला लगा रहा। इस दौरान आने वाले मरीजों को परेशानी उठानी पड़ी। हड़ताल के दौरान इंमरजेंसी सेवाएं बहाल रही।

देर शाम को आईएमए के सदस्यों ने शहर में विरोध जुलूस भी निकाला।पश्चिम बंगाल में मेडिकल कालेज में भीड़ ने डाक्टरों पर हमला कर दिया था। हमले में कई लोग घायल हो गए थे। घटना को लेकर पूरे देश के डाक्टर खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं और सुरक्षा की मांग कर रहे हैं। पश्चिम बंगाल में हुई घटना की आंच पीलीभत के में भी देखी जा रही है। यहां पर बीते कई दिनों से आईएमए के बैनर तले सभी सभी डाक्टर काली पट्टी बांधकर विरोध जता रहे हैं और उन्होंने कार्रवाई के लिए सीएम को ज्ञापन भी भेजा। सोमवार को आईएमए के आह्वान पर सभी सदस्यों के असपतालें में हड़ताल रही। हड़ताल को लेकर अस्पतालों के गेट पर ताला लगा रहा और कोई काम नहीं हुआ। इस दौरान गंभीर मरीजों को लेकर आपातकालीन सेवाएं जारी रही। इधर प्राइवेट अस्पताल बंद होने से जिला अस्पताल में मरीजों की काफी भीड़ रही। देर शाम को प्राइवेट डाक्टरों ने विरोध में जुलूस भी निकाला। आईएमए के मीडिया प्रभारी डा. वाईएन मिश्रा ने बताया कि पूरे दिन हड़ताल के कारण सभी डाक्टरों के अस्पतालों में ताला लगा रहा। इस दौरान आपातकालीन सेवा जारी रही। शाम को निकाले गए हेलमेट जुलूस में आईएमए के अध्यक्ष डा. तरून सेठी, डा. डीके गंगवार, डा. बाईएन मिश्रा, डा. सौरभ अग्रवाल, शैलेन्द्र गंगवार, डा. सतीश गंगवार, दिव्या मिश्रा सहित शहर के सभी प्राइवेट डाक्टर मौजूद रहे।

आईएमए को दिया यूपीएमएसआरए ने समर्थन

बंगाल में हुई घटना को लेकर शहर में आईएमए की हड़ताल और विरोध काे यूपी, उत्तराखंड मेडिकल एसोसिएशन ने भी समर्थन दिया है। अध्यक्ष एमएस धामी ने बताया कि आईएमए के समर्थन में उनका संगठन भी है और सोमवार को विरोध प्रदर्शन में समर्थन दिया गया। उन्होंने सरकार से डाक्टरों को सुरक्षा देने की मांग उठाई है। इसको लेकर उन्होंने आईएमए के सचिव को समर्थन पत्र भी सौंपा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Private hospital closed for West Bengal incident