ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश पीलीभीतआजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदी की कैंसर से मौत

आजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदी की कैंसर से मौत

जिला कारागार में आजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदी की कैंसर की बीमारी के चलते मौत हो गई। हालत बिगड़ने पर उसको जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया।...

आजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदी की कैंसर से मौत
हिन्दुस्तान टीम,पीलीभीतSun, 03 Dec 2023 12:15 AM
ऐप पर पढ़ें

जिला कारागार में आजीवन कारावास की सजा काट रहे कैदी की कैंसर की बीमारी के चलते मौत हो गई। हालत बिगड़ने पर उसको जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया। वहां उसने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। सूचना पाकर पहुंची कोतवाली पुलिस ने शव का पंचायतनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया है। कैदी की मौत की सूचना पाकर परिजनों में कोहराम मच गया।
कोतवाली दियोरिया कलां क्षेत्र के ग्राम अंडहा निवासी 70 वर्षीय केदारनाथ पुत्र मिश्रीलाल को वर्ष 2015 में हुए दोहरे हत्याकांड के मामले में आजीवन कारावास की सजा पांच माह पूर्व हुई थी। तब वह वह जिला कारागार में अपने बेटे के साथ बंद था। केदारनाथ समेत पांच लोगों को सजा हुई थी। हालांकि घटना के बाद भी दियोरिया कोतवाली पुलिस ने उसको जेल भेजा था। तब भी वह तीन वर्ष तक जिला कारागार में बंद रहा था लेकिन बाद में न्यायालय से उसकी जमानत हो गई थी। सजा होने के बाद वह दोबारा जेल चला गया था। वहां उसकी तबियत बिगड़ने लगी थी। उसको गले का कैंसर था। जिसके बाद उसका जिला चिकित्सालय में उपचार चल रहा था। शनिवार रात उसकी तबियत अचानक जेल में खराब हो गई थी। जिसके बाद जेल के चिकित्सक ने प्राथमिक उपचार करने के बाद उसको जिला चिकित्सालय के लिए रेफर कर दिया। जिला चिकित्सालय में उपचार के दौरान देर रात उसकी मौत हो गई। अस्पताल प्रशासन ने कोतवाली पुलिस को मेमो भिजवाया तो कोतवाली पुलिस भी पहुंची और शव को कब्जे में लेकर कानूनी कार्रवाई की। जेल प्रशासन की सूचना पाकर मृतक के परिजन भी पहुंच गए। पोस्टमार्टम के बाद शव को परिजनों के सुपूर्द कर दिया गया। प्रभारी निरीक्षक कोतवाली नरेश त्यागी ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत का कारण पता चल सकेगा। कार्यवाहक जेल अधीक्षक संजय राय ने बताया कि कैदी की पिछले काफी समय से तबियत खराब चल रही थी। उसका उपचार कराया जा रहा था।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें