DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गर्भवती बहू को ठेली में लेकर अस्पताल पहुंचा ससुर, रास्ते में प्रसव

गर्भवती बहू को ठेली में लेकर अस्पताल पहुंचा ससुर, रास्ते में  प्रसव

सरकार भले ही जन जन तक सरकारी सुविधाओं को पहुंचाने के दावे कर रही हो लेकिन इसकी हकीकत परे हैं। सरकारी तंत्र का लाभ न मिलने पर एक ससुर अपनी गर्भवती बहू को ठेली से लेकर सीएचसी पहुंचा। देर होने से महिला ने ठेली पर ही बच्चे को जन्म दे दिया। प्रसव होने के बाद महिला को सीएचसी में भर्ती कराया गया।

सरकार की ओर से जच्चा बच्चा की सुरक्षा के लिए तमाम योजनाएं चलाईं जा रही हैं। शनिवार रात की एक घटना ने सरकार की जनहित योजनाओं की पोल खोल दी। नगर के एक मोहल्ले की रहने वाली विवाहिता को शनिवार रात प्रसव पीड़ा हुई। उसके ससुर ने पड़ोस में रहने वाली आशा से संपर्क किया। आरोप है कि व्यस्तता के चलते आशा ने कुछ देर बाद आने की बात कही। बहू को तड़पता देखकर ससुर रह न सका। परिजनों की मदद से उसने दर्द से कराह रही बहू को ठेली पर लाद लिया। रात के अंधेरे में बुजुर्ग हाथ में टार्च लेकर ठेली को खींचते हुए अस्पताल की ओर लेकर चल दिया। ज्यों-ज्यों अस्पताल की दूरी कम होती जा रही थी तो विवाहिता की पीड़ा और बढ़ती जा रही थी। अस्पताल से कुछ कदम की दूरी पर ही विवाहिता ने ठेली में ही बच्चे को जन्म दे दिया। दर्द के चलते वह ठेली में ही अचेत हो गई। बमुश्किल परिजन उसे अस्पताल लेकर पहुंचे। अस्पताल का स्टाफ नवजात और प्रसूता को प्रसव कक्ष में ले गए। वहां उपचार के बाद उनको वार्ड में भर्ती किया गया। तब जाकर उसके परिजनों ने राहत की सांस ली।

-----

प्रसूता के परिजनों ने एंबुलेंस को सूचना नहीं दी थी। ठेली पर लाते समय रास्ते में नहीं अस्पताल गेट के पास उसने बच्चे को जन्म दिया है। आशा के साथ न आने के मामले में उसे स्पष्टीकरण लिया जाएगा।

डा. छत्रपाल

एमओआईसी, पूरनपुर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pregnant daughter-in-law took her father-in-law to hospital delivery on the way