DA Image
26 फरवरी, 2020|12:28|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब सीएचसी पर कैंप लगाकर बनाए जाएंगे गोल्डन कार्ड

अब सीएचसी पर कैंप लगाकर बनाए जाएंगे गोल्डन कार्ड

प्रधानमंत्री का पत्र आने के बाद अब तक लोगों को पीलीभीत आकर गोल्डन कार्ड बनवाने पड़ते हैं। देहात क्षेत्र से आने वाले पात्रों को इसमें होने वाली समस्या को देखते हुए अब सीएचसी स्तर पर ही गोल्डन कार्ड जारी करने के लिए कैंप लगाए जाएंगे। कार्ड बनाने के साथ ही कैंप में आने वाले पात्रों का परीक्षण कर दवा भी दी जाएगी। सीएमओ ने इसका रोस्टर जारी कर अधीक्षकों को दिशा निर्देश दिए हैं। इसके अलावा सीडीओ ने प्रधानों और सचिवों की भी कैंप में मौजूदगी के निर्देश जारी किए हैं।

प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना के पात्रों को इलाज के लिए जिला अस्पताल में खुले कार्यालय में आकर कार्ड बनवाने पड़ते हैं। यहां आने पर उनको काफी परेशानी होती है तो जन सुविधा केन्द्र पर रुपए लिए जाते हैं। इसे देखते हुए विकास विभाग और स्वास्थ्य विभाग ने ब्लाक स्तर पर ही सीएचसी और पीएचसी में पात्रों को कार्ड जारी करने की योजना बनाई थी। सीएमओ ने कार्ड बनाने के लिए कैंपों का आयोजन करने के लिए रोस्टर तैयार कर सीडीओ को दिया था। इसमें सचिव और प्रधानों की मौजूदगी भी रहेगी। सीडीओ ने सीएमओ की योजना और रोस्टर को लेकर बीडीओ को निर्देश जारी किए। इधर सीएमओ ने कैंपों में ही पात्रों का परीक्षण कर इलाज करने के अधीक्षकों को आदेश दिए हैं। कहा गया है कि कैंप में पात्रों के कार्ड जन सुविधा केन्द्र के कर्मचारियों से फ्री में कार्ड बनवाकर पात्रों को दिए जाएं। रोस्टर के अनुसार कैंप सुबह आठ बजे से शाम पांच बजे तक होगा। हर सीएचसी में कैंप का आयोजन दो दिवसों में किया जाएगा। इसमें कैंप का आयोजन पांच जुलाई से शुरू कर दिया गया। 10 जुलाई तक कैंप लगाकर गोल्डन कार्ड बनाए जाएंगे। शनिवार को बरखेड़ा में कैंप लगाने के बाद अब सोमवार को बीसलपुर, मंगलवार को पूरनपुर और 10 जुलाई को अमरिया सीएचसी में कैंप लगाए जाएंगे। सीएमओ डा. सीमा अग्रवाल ने बताया कि कैंपों का रोस्टर जारी कर दिया गया है और अधीक्षकों को इसके लिए निर्देश भी जारी किए गए। कैंप में ही पात्रों का परीक्षण किया जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Now the Golden Card will be built by camping at the CHC