Notice issued to 54 Center Incharge on negligence in purchase - लापरवाही पर 54 केन्द्र प्रभारियों को नोटिस DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लापरवाही पर 54 केन्द्र प्रभारियों को नोटिस

लापरवाही पर 54 केन्द्र प्रभारियों को नोटिस

सरकारी खरीद सेंटरों पर गेहूं की कम खरीद और काम में लापरवाही करने की मिल रही शिकायतों पर प्रशासन ने अब कार्रवाई करना शुरू कर दिया। डीएम ने जांच के दौरान लापरवाही मिलने और कम खरीद होने पर जिला प्रबंधकों को प्रतिकूल प्रविष्टि देने के साथ ही स्पष्टीकरण तलब किया। इसके अलावा 21 केन्द्र प्रभारियों को कारण बताओं नोटिस जारी किया गया। प्रशासन ने सख्ती दिखाते हुए केन्द्र बंद पाए जाने पर सेंटर प्रभारी के निलंबन की संस्तुति करते हुए सात का वेतन रोका है। प्रशासन की इस कार्रवाई से खरीद एजेंसी के जिला प्रबंधकों और सेंटर प्रभारियों में खलबली मची हुई है।

गेहूं खरीद को लेकर मिले लक्ष्य की पूर्ति हर हाल में करने और सेंटरों पर किसानों के साथ अच्छा व्यवहार कर व्यवस्थाओं को ठीक करने के आदेश जारी किए गए थे। प्रशासन के इस आदेश को सेंटर प्रभारी भूल गए और मनमानी हाबी होने लगी थी। इसके चलते किसानों का सेंटरों से मोहभंग होने लगा था। शुरूआती दौर में मिलने वाली शिकायतों को लेकर प्रशासन भी गंभीर नहीं दिखा था। अब जब लक्ष्य से खरीद काफी कम होने की रिपोर्ट आई तो अधिकारियों ने इसमें जांच करानी शुरू कर दी। जांच में सेंटर प्रभारियों और जिला प्रबंधकों को दोषी माना गया। जांच रिपोर्ट में जिले में खोले गए सेंटरों में 54 पर खरीद में अनियमितताएं होने की बात कही गई है। इसमें कहीं सेंटर पर किसानों के साथ ठीक व्यवहार नहीं किया गया तो कहीं पर खरीद नहीं की गई। डीएम के निर्देश पर डिप्टी आरएमओ डा. अविनाश झा ने कम खरीद होने पर केन्द्र प्रभारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया। इसके अलावा डीएम और जिला खरीद अधिकारी छह जिला प्रबंधकों का स्पष्टीकरण तलब किया है। अन्य जिला प्रबंधकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया। गांव सुंदरपुर के सेंटर प्रभारी बिजेन्द्र कुमार को किसान से रुपए मांगने के आरोप में निलंबित पहले ही किया जा चुका है जबकि पीलीभीत मंडी में लगा एक सेंटर जांच के दौरान बंद मिलने पर पीसीएफ सेंटर प्रभारी मुशाहिद के खिलाफ निलंबन की संस्तुति की गई है। प्रशासन की इस कार्रवाई से जिला प्रबंधकों और सेंटर प्रभारियों में हड़कंप मचा है।

एसएफसी जिला प्रबंधक का रोका गया वेतन : जिले में एसएफसी के संचालित 13 सेंटरों पर लक्ष्य के अनुसार खरीद न होने पर डीएम ने जिला प्रबंधक को कई बार नोटिस जारी किया था और खरीद तेज करने के आदेश देते हुए चेतावनी दी थी। इसके बाद भी जिला प्रबंधक पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा और खरीद भी नहीं बढ़ सकी। ऐसी दशा में जिला खरीद अधिकारी अतुल सिंह ने एसएफसी के जिला प्रबंधकवीएस नेगी का अग्रिमआदेशों तक वेतन आहरण पर रोक लगा दी है।

गेहूं खरीद में अपेक्षित प्रगति न करने और चेतावनी के बाद कार्यशैली में बदलाव न होने पर जिला खरीद अधिकारी अतुल सिंह ने भारतीय खाद्य निगम के क्रय प्रबंधक पूरनपुर कुंवरपाल और क्रय प्रबंधक पीलीभीत/बीसलपुर प्रदीप कुमार को प्रतिकूल प्रविष्टि देने की संस्तुति करते हुए रिपोर्ट क्षेत्र प्रबंधक को भेजी है।

डिप्टी आरएमओ ने डॉ. अविनाश झा ने बताया कई बार चेतावनी के बाद भी कोई प्रभाव न पड़ने और खरीद में तेजी न आने पर डीएम के निर्देश पर सेंटर प्रभारियों को नोटिस जारी किया गया। सात सेंटर प्रभारियों का वेतन रोका गया। जिला प्रबंधकों को खुद जिला खरीद अधिकारी ने स्पष्टीकरण मांगा है। इसके बाद भी सुधार न होने पर विभागीय कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Notice issued to 54 Center Incharge on negligence in purchase