DA Image
22 अक्तूबर, 2020|12:48|IST

अगली स्टोरी

इलावांस देवल को विकसित करने के लिए मिले नौ लाख

इलावांस देवल को विकसित करने के लिए मिले नौ लाख

इलावांस देवल के प्राचीन देवी मंदिर को विकसित करने के लिए शासन से नौ लाख रुपये आवंटित किए गए हैं। यहां काम कराए जाने के उपरांत स्थान को जल्द पर्यटक स्थल घोषित किया जा सकता है।

बीसलपुर के गांव इलावांस देवल मंदिर में शिलालेख आज भी अपनी ही तरह ही भाषा में राज बने हुए हैं। रूहेलखंड के प्रमुख शक्तिपीठों में गिना जाने वाला इलावांस देवल का मां भगवती मंदिर कई मायनों में आस्था का स्थल है। दूरदराज से हजारों श्रद्धालु मंदिर पर आकर मुंडन संस्कार आदि धार्मिक अनुष्ठान कराते हैं। विधायक रामसरन वर्मा ने प्रदेश के पर्यटन, संस्कृति, धर्मार्थ कार्य राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभात डा. नीलकंठ तिवारी को माह जुलाई में मांग पत्र देकर इलावांस देवल एवं लिलहर धार्मिक स्थल को पर्यटक स्थल घोषित किए जाने की मांग की थी। सरकार ने इलावांस देवल को पर्यटक स्थल घोषित करते हुए नौ लाख रुपये की धनराशि पर्यटन विभाग को रिलीज कर दी है। अब इसके विकसित होने की उम्मीद जागी है। इलावांस देवल के शक्तिपीठ पर बरेली के लोध राजपूत यहां दशकों से आते हैं और मन्नते मांगते हैं। वैसे तो यहां हर अमावस्या को मेला लगता है।

महुआ सूर्य कुंड, इलावांस देवल, लिलहर धार्मिक स्थलों को पर्यटक स्थल घोषित करने की मांग शासन स्तर पर की गई थी। शासन ने नौ लाख रुपये की पहली किश्त जारी कर दी है। अन्य धार्मिक स्थलों को भी पर्यटक स्थल घोषित कराने का प्रयास कर रहा हूं।

-रामसरन वर्मा, विधायक बीसलपुर

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Nine lakhs found to develop Elavan Deval