DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमरिया में आए नेपाली हाथियों की हो रही जीपीएस से मॉनीटरिंग

अमरिया में आए नेपाली हाथियों की हो रही जीपीएस से मानीटरिंग

नेपाल से हाथी अभी अमरिया क्षेत्र में ही मौजूद हैं और फसलों को तबाह कर रहे है। हाथियों की लोकेशन जानने के लिए अब अधिकारियों ने जीपीएस प्रणाली को चालू किया है। इसके लिए एफडी ने कर्मचारियों की टीम को हाथियों के आने और जाने वाले रास्ते पर लगाया है। अधिकारियों का दावा है कि अब हाथी तैूमर गांव से आगे निकल कर एक स्थान पर मौजूद हैं। देर रात हाथी वापसी कर लेंगे।

नेपाल की शुक्लाफांटा सेक्चुरी से दो हाथी करीब पांच दिन पहले भारतीय क्षेत्र में लग्गाभग्गा से होकर प्रवेश कर गए थे। बराही रेंज घूमने के बाद हाथी दो दिन पहले अमरिया क्षेत्र में उसी स्थान पर पहुंच गए जहां पर बाघिन का कुनबा रहता है। जानकारी होने पर वन विभाग ने हाथियों को गन्ने के खेत में घेर लिया था और भगाने का प्रयास शुरू किया गया था। सोमवार की शाम तक हाथी वहां से हट नहीं सके थे। रात को टीम वहां से हट गई थी, लेकिन निगरानी जारी रही थी। हाथियों को लेकर एफडी एच राजा मोहन ने मौके पर टीमोंं को लगाया था और सभी के पास जीपीएस सिस्टम था। सिस्टम से हाथियों पर नजर रखी जा रही है। सुबह जब लोकेशन ट्रेस की गई तो हाथी तैमूर गांव में नहीं थे। गांव से दूर एक स्थान पर उनकी लोकेशन देखी गई। एफडी ने जीपीएस प्रणाली से हाथियों के आने का रास्ता और जाने का मानचित्र तैयार किया है। इसी आधार पर कर्मचारियों को लगाया गया। एफडी का कहना है कि गांव से काफी दूर हाथी आ गए हैं और अब वह वापस जा रहे हैं। एक स्थान पर दिन होने के कारण रूके हुए है। देर रात तक हाथी वापस लौट सकते हैं। सुरक्षा और निगरानी को टीम लगी हुई है।

उत्तराखंड के भी हो सकते हैं हाथी

उत्तराखंड की बसरोली रेंज में हाथियों का एक झुंड रूका हुआ है जो भटक कर आया है। उस झुंड से दो हाथी अलग हो गए हैं। ऐसे में सभावना जताई जा रही है कि कहीं अमरिया में आए हाथी उत्तराखंड केतो नहीं है। एफडी ने इसकी जांच पड़ताल तो की, लेकिन बरसात होने से पदचिंह ट्रेस नहीं हो पा रहे हैं। उत्तराखंड वन विभाग से जानकारी जुटाई जा रही है। यदि हाथी उत्तराखंड है तो वापस आसानी से जा सकते है। अमरिया आने से पहले हाथी उत्तराखंड की सीमा होकर आए थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Nepali elephants coming from Amaria to monitor with GPS