DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दुलहन तलाशने नेपाल जाएगी बिलसंडा पुलिस

दुलहन तलाशने नेपाल जाएगी बिलसंडा पुलिस

मानव तस्करी के एक केस में नेपाली युवती की बरामदगी के लिए बिलसंडा पुलिस अब नेपाल जाएगी। विदेश मंत्रालय से नेपाल जाने के लिए पुलिस ने अनुमति मांगी है। विवेचक ने सीओ के माध्यम से आईजी को अवगत कराया है। अब मंत्रालय से पुलिस को अनुमति का इंतजार है।

मानवाधिकार आयोग के आदेश पर बिलसंडा थाने में एक अक्टूबर 2018 को नेपाल की युवती को भारत लाकर 70 हजार में बेंचने के आरोप में पति, पत्नी समेत तीन लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया था। परिजनों ने तो हत्या तक का आरोप लगा डाला। हालांकि पुलिस हत्या की बात को नहीं मान रही। इस केस की विवेचना दरोगा अभय पांडे कर रहे हैं। उनके मुताबिक अब भी युवती से गांव में लोगों की बात हो रही है। जैसा उन्हें पता चला है कि अब वो यहां आना ही नहीं चाह रही। हालांकि बिना बरामदगी और बयान केस का डिस्पोजल भी नहीं हो रहा। बस ये ही सब पुलिस के लिए सिरदर्द बन गया है और उसे नेपाल जाना होगा।

बार्डर सीमा पुलिस से भी संपर्क का सहारा : पुलिस विदेश मंत्रालय की अनुमति के अलावा अब भारत नेपाल बार्डर सीमा पुलिस से भी संपर्क साधेगी। बार्डर पर नेपाल की पुलिस को पूरा मामला बताया जाएगा। दर्ज केस के दस्तावेज सौंपे जाएंगे और बाद में युवती को पूछताछ के लिए बार्डर पर बुलाया भी जा सकता है। मगर उसे भारत लाने की प्रक्रिया जटिल होगी।

सात दिन बनी दुल्हन, फिर भेज दिया नेपाल : बिलसंडा थाना क्षेत्र के गांव नवदिया मरौरी के ओमप्रकाश ने बताया कि उसके भतीजे गयादीन की शादी नहीं हुई थी। उसके पड़ोसी जसवीर, उसकी पत्नी संगीता व मेवाराम से उसकी बात हुई तो उसने नेपाल से एक युवती को लाकर गयादीन की शादी कराने की बात कही। 70 हजार रुपए देकर तीनों ने अंजना नाम की एक युवती को लाकर गयादीन को दे दिया। बाद में गयादीन की युवती के साथ एक मंदिर में शादी करा दी गई। करीब एक सप्ताह तक युवती गयादीन के साथ रही। बाद में संगीता ने शादी के बाद नेपाल की एक रस्म बताकर घर भेजने की बात कही। संगीता अपने पति व पड़ोसी मेवाराम के साथ अंजना को लेकर गई। गयादीन भी साथ गया। आरोप है कि नेपाल के धनगढ़ी में अंजना फिर से दो लोगों को सौंप दिया। जिन्हें उसका माता पिता बताया गया। बात हुई थी कि पांच छह दिनों में ही उसे फिर से उसके पति के पास भारत भेज दिया जाएगा। महीनों अंजना नहीं आई और न ही उसका कोई पता अब तक लग रहा। थक हारकर पति काफी दिनों तक गुजरात में काम करने भी चला गया। अभी पिछले सप्ताह इस मामले में गयादीन के चाचा ओमप्रकाश ने इस मामले में पुलिस को फोन किया। पुलिस गांव पहुंची और दो लोगों को थाने ले आई और बाद में उनका 151 में चालान कर दिया। मगर केस दर्ज नही किया। जिसके बाद ओमप्रकाश ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की शरण ली। मानवाधिकार आयोग के आदेश पर पुलिस ने मानव तस्करी के आरोप में केस दर्ज की है। ओमप्रकाश का आरोप है कि संगीता खुद भी नेपाल की रहने वाली है और वो अपने पति व अन्य लोगों के साथ युवतियों की खरीद फरोख्त का काम करती है। सीओ बीसलपुर प्रवीण मलिक ने बताया कि नेपाल जाने के लिए आईजी को अवगत कराया गया है। विदेश मंत्रालय से अनुमति मांगी गई है। अनुमति मिलने के बाद ही पुलिस वहां जा पाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Nepal will go to Bilasda Police External Affairs Ministry sought permission