DA Image
22 अक्तूबर, 2020|6:11|IST

अगली स्टोरी

पीलीभीत पहुंचा टिड्डी दल, गन्ने की फसल पर मंडराते दिखीं टिड्डियां

locust arrived in pilibhit locusts hovering over sugarcane crop

सावधान! तराई के पूरनपुर क्षेत्र में टिड्डी की आमद हो गई है। इससे अन्नदाता एकाएक संकट में आ गए हैं। हालांकि अभी इसका अधिक प्रकोप नहीं मिला है। लेकिन काफी संख्या में टिड्डी फसलों की पत्ती को खा रही है। साथ ही खेतों में हजारों की संख्या में बच्चे भी दे दिए हैं। एक जागरूक फार्मर की नजर जब टिड्डी पर पड़ी तो उसने कृषि अधिकारियों को सूचना दी। इस पर अधिकारियों ने मौके पर आकर खेतों का जायजा लिया।

इस तराई क्षेत्र के जनपद पीलीभीत की पूरनपुर तहसील खेती किसानी के नाम पर जानी जाती है।यहाँ धान गेहूं के अलावा गन्ने का भारी उत्पादन होता है। वैसे तो हर साल कोई न कोई रोग और कीट पतंगों का प्रकोप फसलों पर होता आया है। लेकिन पिछले कुछ समय से देश के कुछ हिस्सों में टिड्डी दल के हमले किसानों को परेशान किए हुए हैं। इसको लेकर भारत सरकार के अलावा उत्तर प्रदेश सरकार ने भी अलर्ट जारी कर कृषि अधिकारियों को इससे निपटने के निर्देश दिए हैं।

किसानों को जागरूक होने के लिए भी कहा गया है। पूरनपुर क्षेत्र में जागरूक किसान लगातार इस पर नजर रखे हुए हैं। क्षेत्र के प्रमुख फार्मर गुरुमंगद सिंह ने अपने सिमरिया और लालपुर के खेतों पर टिड्डी देखी तो उनके होश उड़ गए। उनके रेतीले खाली पड़े खेत में हजारों की संख्या में टिड्डी के बच्चे देखे गए। इसपर उन्होंने तुरंत खेत की जुताई कर उसके बच्चों को जमीन में ही दबा दिया। साथ ही उन्होंने गन्ने की फसल पर पत्ती को खाते हुए देखा। इसपर उन्होंने नमूने के तौर पर कुछ टिड्डी को अपने पास रख लिया।

इसकी सूचना फार्मर ने तत्काल कृषि अधिकारियों को दी। इसपर उप कृषि निदेशक यशराज सिंह और जिला कृषि रक्षा अधिकारी बुधवार को पूरनपुर पहुंचे। उन्होंने खेत पर जाकर टिड्डी की जांच पड़ताल की। उन्होंने माना कि यह अलग तरीके की है जो इससे पहले क्षेत्र में नजर नहीं आई थी। हालांकि टिड्डी इससे पहले भी खेतों में किसानों को नुकसान पहुंचाती आई है लेकिन पहले देखी जा चुकी टिड्डी का इससे मेल नहीं बताया जाता है।

एकाएक इस क्षेत्र में टिड्डी की आमद से किसानों के होश उड़ गए हैं। यह तो बात एक जागरूक किसान की है जिसने समय रहते खेत को देख लिया और अधिकारियों को भी अलर्ट कर दिया। इसी तरह क्षेत्र के अन्य किसानों को भी जागरूक रहने की जरूरत है। ताकि समय रहते किसान फसलों का नुकसान होने से बच सकें।

किसानों को टिप्स

  • खेतों पर लगातार नजर बनाए रखें-
  • टिड्डी आने की सूचना कृषि अधिकारियों को दें
  • खाली पड़े रेतीले खेतों की जुताई कर उसमें पानी भर दें
  • फसल में टिड्डी दिखे तो दवा का स्प्रे करें

एक फार्मर की सूचना पर मैंने खेत पर जाकर जांच पड़ताल की। दिखने में यह अलग तरीके की टिड्डी नजर आ रही है। किसान ने सक्रियता दिखाते हुए खाली पड़े खेत को जोतकर उसके बच्चों को दबा दिया जिससे इनकी संख्या बढ़ने की संभावना कम हो गई। क्षेत्र के अन्य सभी किसानों को भी जागरूक होकर फसलों पर निगरानी रखने की जरूरत है। टिड्डी देखने पर संबंधित दवा का किसान स्प्रे करें।
यशराज सिंह, उप कृषि निदेशक, पीलीभीत

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Locust arrived in Pilibhit Locusts hovering over sugarcane crop