DA Image
Friday, December 3, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश पीलीभीतकिसानों की गिरफ्तारी हुई तो हम जेल भर देंगे : चढूनी

किसानों की गिरफ्तारी हुई तो हम जेल भर देंगे : चढूनी

हिन्दुस्तान टीम,पीलीभीतNewswrap
Mon, 15 Nov 2021 03:33 AM
किसानों की गिरफ्तारी हुई तो हम जेल भर देंगे : चढूनी

रविवार को गुरुद्वारा हरसिंहपुर के पास खेत में हुई लखीमपुर किसान न्याय महापंचायत की व्यवस्था में पांच सौ वालंटियर लगाए गए। वह अपनी पूरी जिम्मेदारी का निर्वहन करते दिखे। महापंचायत में पहुंचे लोगों के वाहनों को पार्किंग स्थल तक पहुंचाया। हालांकि पार्किंग स्थल में पुलिस की भी ड्यूटी लगी थी लेकिन वह इधर-उधर रही। किसी को रोका टोका नहीं।

लखीमपुर के तिकुनिया कांड को लेकर रविवार को पूरनपुर के हरसिंहपुर में किसानों की महापंचायत हुई। इसमें प्रदेश के अलावा अन्य प्रदेशों से भी किसान पहुंचे। महापंचायत की व्यवस्था को लेकर पांच सौ वालंटियर लगाए गए। इनको पार्किंग, देखरेख सहित कई जिम्मेदारियां दी गईं। दस एकड़ जगह में फैली व्यवस्था पूरी तरह से व्यवस्थित रही। वीआईपी, महापंचायत में वाहनों से पहुंचने वाले लोगों को वालंटियर पार्किग तक ले गए। इससे भारी भीड़ के बाद भी अव्यवस्था या जाम नहीं लगा। ट्रैफिक व पुलिस की भी ड्यूटी लगाई गई थी पर उसने किसी को रोकाटोका नहीं।

सरकार का ढुलमुल रवैया अब नहीं होगा बर्दाश्त

भाकियू चढूनी की हरियाणा महिला प्रदेश अध्यक्ष सुमन हुड्डा पूरनपुर में आयोजित किसान न्याय महापंचायत में शामिल होने आईं। उन्होंने कहा कि खीरी कांड को लेकर अभी तक किसानों को न्याय नहीं मिल सका है। इस मामले में मंत्री के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। अपनी मांगों को लेकर लोकतांत्रिक अधिकार के तहत किसान आंदोलन कर रहे हैं। सरकार के ढुलमुल रवैए के चलते अभी तक सख्ती से एक्शन नहीं हुआ है। ना ही किसानों की मांगों को माना जा रहा है। उल्टे सरकार दबाव बनाकर किसानों को गिरफ्तार करने में जुटी है। सरकार के खिलाफ योजनाबद्ध तरीके से मोर्चा खोला जाएगा।

तराई के किसानों में जगाई अलख, विस चुनाव रहा टारगेट

लखीमपुर किसान न्याय महापंचायत में उप्र के अलावा हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड समेत कई प्रदेशों से आए किसान नेताओं ने तराई के किसानों में अलख जगाई। उन्होंने सरकार पर हमला किया। साथ ही किसानों को एकजुट करने को कहा। ताकि आने वाले समय में बदलाव लाया जा सके। महापंचायत में किसान बेल्ट में जड़ें मजबूत कर आने वाला विस चुनाव ही टारगेट पर रहा।

लखीमपुर के तिकुनिया में हुए कांड के बाद किसान न्याय के लिए आबाज उठाते चले आ रहे हैं। तिकुनिया कांड के किसानों को न्याय दिलाने को लेकर रविवार को पूरनपुर के हरसिंहपुर गुरुद्वारा के पास खेत में लखीमपुर किसान न्याय महापंचायत हुई। इसमें राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी की बर्खास्तगी और गिरफ्तारी मांग की गई। यह महापंचायत संयुक्त किसान मोर्चा के आवाहन और भाकियू चढ़ूनी के राष्ट्रीय अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी की अध्यक्षता में हुई। लखीमपुर कांड के बाद पीलीभीत तराई के पूरनपुर को केंद्र बिंदु मानकर महापंचायत के जरिए किसानों में अलख जगाई गई। महापंचायत में विस चुनाव टारगेट रहा। उप्र, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा सहित कई प्रदेशों से आए किसान नेताओं ने किसानों में जोश भरा। भाकियू चढ़नी के प्रधान ने इस लड़ाई को दूसरी आजादी बताया। कहा बदलाव न हुआ तो किसान गुलाम बन जाएंगे। भीख मांगने की नौबत तक आ जाएगी। यह लड़ाई हर धर्म और जाति के किसानों के हित में है। इस दौरान किसानों से एकजुट रहकर और जड़े मजबूत करने को कहा गया। महापंचायत में मौजूद किसानों ने भी हाथ उठाकर एक स्वर में एकजुट रहने का भरोसा दिया। इससे तराई के किसानों से भरा पंडाल गूंज उठा।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें