DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नाभा जेल ब्रेक कांड में पकड़ा गया हरजिंदर

एटीएस की ओर से पीलीभीत के हरजिंदर सिंह कहलो की गिरफ्तारी की परतें अब धीरे धीरे खुलने लगी हैं। बताया जा रहा है कि हरजिंदर को नाभा जेल ब्रेक कांड के आरोपियों से मिल होने का इनपुट मिला था। इसी के बाद पंजाब एटीएस ने यूपी एटीएस के साथ मिलकर उसे गिरफ्तार कर लिया। इस बात की पुष्टि अमृतसर एटीएस के आई ने की है। हालांकि इस बीच पीलीभीत के लोग अभी तक हरजिंदर की गिरफ्तारी को ठीक से समझ नहीं पा रहे हैं। पीलीभीत के हरजिंदर सिंह कहलो को पंजाब और यूपी एटीएस टीम ने कुछ दिन पहले ही लखनऊ से गिरफ्तार किया था। हरजिंदर के साथ ही अमनदीप सिंह भी एटीएस की गिरफ्त में है। पता चला था कि किसी ने हरजिंदर और अमनदीप को फोन कर लखनऊ बुलाया था। अमनदीप पहले ऊधम सिंह नगर से पीलीभीत आया और यहां से हरजिंदर को अपने साथ लिया। उसके बाद दोनों शुक्रवार दोपहर में लखनऊ के लिए रवाना हो गए। लखनऊ पहुंचते ही दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया। इसके बाद पंजाब एटीएस उन्हें अपने साथ अमृतसर ले गई। उधर अब धीरे धीरे मामले की कड़ियां सुलझती दिख रही हैं। अमृतसर एटीएस के आईजी विजय प्रताप सिंह ने फोन पर बताया कि नाभा जेल ब्रेक कांड का मुख्य आरोपी गोपी है। जो कि फिलहाल फरार है। गोपी की पीलीभीत के हरजिंदर सिंह कहलो, सुल्तानपुर के संदीप तिवारी और रुद्रपुर के अमनदीप के साथ कुछ कनेक्शन था। एटीएस सभी को सिलसिले वार तरीके से जोड़ने का प्रयास कर रही है। इसी मामले में हरजिंदर और अमनदीप की गिरफ्तारी की गई है। दरअसल करीब साल भर पहले पंजाब के पटियाला की नाभा जेल में बंद बब्बर खालासा का आतंकी जेल तोड़कर फरार हो गया था। जेल ब्रेक करने के लिए एक बेहतर तरीके से रणनीति तैयार की गई। बाकायदा इसके लिए रिहर्सल किया गया और उसके बाद ही पूरे मामले को अंजाम दिया गया। जेल ब्रेक कांड का मुख्य आरोपी गुरजीत सिंह लाडा बताया जाता है। जेल ब्रेक कांड के बाद पूरे देश में हड़कंप मच गया। जेल से संबंधित कई अधिकारी सस्पेंड कर दिए गए। पंजाब पुलिस और एटीएस को शक था कि आरोपी यूपी में पीलीभीत और लखीमपुर के रास्ते नेपाल जा सकते हैं। तभी से यूपी एटीएस अलर्ट मोड में थी। हालांकि उनका शक सही साबित हुआ। अब पीलीभीत से लेकर लखीमपुर तक हड़कंप मचा हुआ है। एटीएस अभी तक कड़ियां जोड़कर कुछ और गिरफ्तारियां कर सकती है। लखीमपुर में भी मामले से जुड़े कुछ लोग गिरफ्तार किए गए हैं। माना जा रहा है कि पुलिस रिमांड में हरजिंदर और अमनदीप की निशानदेही पर लखीमपुर की बात बताई थी। इसके बाद एटीएस ने छापा मारा और गिरफ्तारी को अंजाम दिया। हालांकि पुलिस और एटीएस के अधिकारी यह बताने की स्थिति में नहीं हैंं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Harjinder caught in Nabha jail break case