DA Image
20 अक्तूबर, 2020|1:03|IST

अगली स्टोरी

फफक पड़े पूर्व विधायक पूरनपुर, याद आए वो लम्हे

फफक पड़े पूर्व विधायक पूरनपुर, याद आए वो लम्हे

उधर टीवी पर कोर्ट ने ढांचा विध्वसं मामले में फैसला सुनाया और यह खबर देख व सुन कर यहां पूर्व विधायक प्रमोद प्रधान उर्फ मुन्नू फफक पड़े। उन्हें अपने वो दिन याद आ गए कि कैसे भाजपा के दिग्गज नेता लाल कृष्ण आडवाणी और फायरब्रांड विनय कटियार का उन्हें साथ मिला था। किसी भी माह और वो दिन नहीं रहा कि वो अयोध्या न पहुंचते हों। पर केवल एक छह दिसंबर 1992 का वह दिन था कि अयोध्या चाह कर भी नहीं पहुंच सके थे। इतनी बंदिशें थीं।

वरिष्ठ व बुजुर्ग नेताओं के सिर पर मंडरा रहा कानून का खतरा टलने के बाद अब बुजुर्ग हो चुके पूर्व विधायक मुन्नू ईश्वर का धन्यवाद जता रहे है।पूरनपुर के कायस्थान मोहल्ले में रह रहे पूरनपुर के पूर्व विधाक प्रमोद प्रधान उर्फ मुन्नू कारसेवक के तौर पर पीलीभीत से प्रमुख चेहरा रहे। लगातार सक्रियता के कारण उन्हें उमा भारती, विनय कटियार, कल्याण सिंह व शीर्ष नेतृत्व में उन दिनों शुमार रहे आडवाणी का पूरा स्नेह प्राप्त था। अयोध्या आना जाना तो ऐसा था कि कोई पूरनपुर से पीलीभीत आया हो। ढांचा विध्वंस मामले में 28 वर्ष बाद आए फैसले को लेकर सुबह से ही मुन्नू टीवी पर नजरे जमाए थे। जब अपराहन में यह फैसला आया तो वे मारे खुशी के फफक पड़े। बोले बहुत मुसीबतें उठाई थी साहब उन दिनों...। बस श्रीराम जी का मंदिर बन रहा है और अब हमारे शीर्ष नेतृत्व वाले नेतागण आडवाणी जी, उमा जी, कटियार और पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह भी दोषमुक्त हो गए है। इससे अधिक खुशी की बात कोई नहीं हो सकती। न्याय मिल गया। कोर्ट का धन्यवाद।

खुद पल्ले में सीमेंट लेकर डाला है हमने

अयोध्या में उन दिनों एक चबूतरा बन रहा था। उन दिनों हमारा अयोध्या आना जाना रहता था। तन मन धन से जो हो सका हमेशा ही किया। पर वह खुशी आज भी भुलाए नहीं भूलती कि जब सीमेंट बजरी भरा मसाला मैंने और मेरी पत्नी सुभाषिनी ने पतले में भर कर वहां डाला और कारसेवा का सुख प्राप्त किया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Former MLA Pooranpur fluttered remember those moments