DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गेहूं तौल न होने पर किसानों ने किया प्रदर्शन

गेहूं तौल न होने पर किसानों ने किया प्रदर्शन

मंडी समिति में लगे गेहूं क्रय केंद्रों पर गेहूं तौल न होने पर किसानों ने नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। किसानों का आरोप है कि उनका गेहूं कई दिनों से तौल के लिए पड़ा है लेकिन तौल नहीं की जा रही है। आरोप है कि सुविधा शुल्क न देने वाले किसानों को बहानेबाजी कर टरकाया जा रहा है। गेहूं तौल न होने से किसान गेहूं को भर वापस घरों को ले जाने लगे हैं। प्रदर्शनकरियों ने शीघ्र ही गेहूं तौल न होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है।

किसानों का कहना है कि मंडी समिति में सात गेहूं क्रय केंद्र लगाए गए हैं। किसानों का आरोप है कि इन केंद्रों पर वास्तविक किसानों के गेहूं की खरीद नहीं की गई है। गेहूं खरीद को फर्जी दर्शाया जा रहा है। आरोप है कि सुविधा शुल्क न देने वाले किसानों को बहानेबाजी कर टरका दिया जाता है। कई बार किसानों ने गेहूं तौल कराने के लिए अधिकारियों से मांग की लेकिन इस तरफ ध्यान नहीं दिया गया। अधिकारियों की उदासीनता के चलते चलते में आक्रोश बढ़ता जा रहा है।

तौल न होने से किसान गेहूं को घरों पर वापस ले जाने लगे हैं। बुधवार को किसानों ने गेहूं के लगे ढेरों के पास एकत्र होकर नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने शीघ्र ही गेहूं तौल न होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है। प्रदर्शन करने वालों में किसान भाकियू के जिला वरिष्ठ उपाध्यक्ष मंजीत सिंह, अमरीक सिंह, बबलू पांडेय, वीरचंद्र शर्मा, राजेंद्र कुमार, राजेंद्र सिंह, गुरसेवक सिंह, गुरप्रीत सिंह गोपी, रासिद अहमद, बृह्मपाल सहित दर्जनों की संख्या में किसान मौजूद रहे।

तौल न होने से बारिश में भीग गया गेहूं पूरनपुर। मंडी समिति परिसर में लगे क्रय केंद्रों पर गेहूं तौल कराने के लिए किसान कई दिनों से डेरा जमाए हुए हैं। यहां पर कई किसानों का गेहूं पड़ा हुआ है। मंगलवार को हुुई बरसात से कई किसानों का गेहूं भीग गया। कुछ किसानों ने गेहूं के ऊपर तरपाल डालकर गेहूं को भीगने से बचाया लेकिन इसके बावजूद भी गेहूं में नमी पहुंच गई है।

गांव पड़रिया की किसान करनैल कौर, सबलपुर के हरपाल सिंह, गजरौला जप्ती के वीरचंद्र शर्मा ने बताया कि उनका गेहूं कई दिनों से तौल कराने के लिए मंडी परिसर में पड़ा हुआ है। अधिकारियों से मांग करने के बाद भी गेहूं की तौल नहीं की जा रही है। इससे किसानों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। गांव मोहम्मदपुर के किसान बबलू पांडेय ने बताया कि गेहूं तौल न होने से गेहूं को वापस ले जा रहे हैं। आरोप है कि उनका गेहूं करीब एक माह से यहां पड़ा हुआ है जिसकी तौल नहीं की गई है। अधिकारी गेहूं में खामियां निकालकार किसानों का शोषण कर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Farmer angry to did not do the wheat weighing