ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश पीलीभीतसुविधा : छोटे गन्ना किसानों को जारी की 119387 एसएमएस पर्चियां

सुविधा : छोटे गन्ना किसानों को जारी की 119387 एसएमएस पर्चियां

अब छोटे गन्ना किसानों को एसएमएस पर्चियां लेने को चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। जिन किसानों के खेत में पेड़ी गन्ना खड़ा होगा। उस किसान के मोबाइल पर गन्ना...

सुविधा : छोटे गन्ना किसानों को जारी की 119387 एसएमएस पर्चियां
हिन्दुस्तान टीम,पीलीभीतFri, 08 Dec 2023 12:15 AM
ऐप पर पढ़ें

अब छोटे गन्ना किसानों को एसएमएस पर्चियां लेने को चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। जिन किसानों के खेत में पेड़ी गन्ना खड़ा होगा। उस किसान के मोबाइल पर गन्ना एसएमएस पर्ची पहुंच जाएगी। ऐसे में छोटे गन्ना किसानों का गन्ना समय से चीनी मिल में आपूर्ति हो सकेगा। अभी तक गन्ना विभाग ने 48080 किसानों को 119387 एसएमएस गन्ना पर्चियां भेजी जा चुकी हैं।
जिलेभर में कुल 2.26 लाख गन्ना किसान हैं। यह किसान विभिन्न सहकारी गन्ना विकास समितियों के माध्यम से चीनी मिलों को गन्ने की आपूर्ति करते हैं। वर्तमान पेराई सत्र में कुल 8,505 नए गन्ना किसानों को यूनिक कोड आवंटित किए गए हैं। यह किसान पहली बार गन्ना आपूर्ति कर रहे हैं। गन्ना आयुक्त प्रभु एन. सिंह ने जारी सट्टा नीति में छोटे गन्ना किसानों को चीनी मिल चलने के 45 दिन के भीतर पेड़ी गन्ना और एक फरवरी से 45 दिन के अंदर पौधे गन्ने के लिए पर्ची देने के व्यवस्था की है। बेसिक मोड (09 क्विंटल) की आठ पर्चियों अर्थात 72 क्विंटल तक के सट्टाधारक किसानों को छोटा किसान माना गया है। इससे पहले 60 क्विंटल तक के सट्टाधारकों को छोटे किसान की श्रेणी में रखा जाता था। डीसीओ खुशीराम ने बताया कि जिले में कुल 65,731 छोटे किसान हैं, जिनमें से 40,080 छोटे किसानों को अब तक 1,19,387 गन्ना पर्चियां जारी की चुकी हैं। सर्वाधिक छोटे किसान 31,753 पीलीभीत गन्ना समिति क्षेत्र से, 22,779 बीसलपुर समिति, 10,782 पूरनपुर समिति एवं 771 मझोला समिति से संबंधित हैं। अब छोटे किसान छोटे ट्रैक्टर-ट्राली से गन्ना ला रहे हैं। इन किसानों द्वारा अपना सप्लाई मोड 27 क्विंटल का कराया है। इस पर ग्रास वजन 60 क्विंटल तक तौल किया जाता है। मोबाइल पर एसएमएस पर्ची प्राप्त होने के बाद ही गन्ने की कटाई करने को कहा गया है।

चीनी मिलों ने 4.86 लाख क्विंटल बनाई चीनी

तीन नवंबर को सर्वप्रथम शहर की चीनी मिल ने पेराई कार्य शुरू किया। आठ नवंबर को बजाज चीनी मिल बरखेड़ा, 24 नवंबर को सहकारी चीनी मिल बीसलपुर और छह दिसंबर को सहकारी चीनी मिल पूरनपुर ने पेराई कार्य शुरू किया। छह दिसंबर तक 60 लाख कुन्तल गन्ने की खरीद की जा चुकी है। अब तक चीनी मिलों ने 4.86 लाख क्विंटल चीनी का उत्पादन किया है। रोजाना जिले की चीनी मिलों द्वारा लगभग 2.25 लाख क्विंटल गन्ना खरीद की जा रही है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें