DA Image
15 अगस्त, 2020|10:08|IST

अगली स्टोरी

पुल निर्माण के लिए हरिद्वार गए थे चंदिया हजारा के मजदूर

पुल निर्माण के लिए हरिद्वार गए थे चंदिया हजारा के मजदूर

गांव चंदिया हजारा से दो दर्जन लोग मजदूरी पर हरिद्वार में पुल के निर्माण के लिए गए थे। लाक डाउन होने से वह वापस अपने घर नहीं लौट सके। अब उनके ठेकेदार ने राशन पानी देना बंद कर दिया है। इससे सभी मजदूर भूखे प्यासे फंसे हुए हैं। उन्होंने सरकार से घर वापसी की गुहार लगाई है।

पूरनपुर के बंगाली बाहुल्य गांव चंदिया हजारा से दो दर्जन लोग लाक।डाउन से एक महीने पहले उत्तराखंड के हरिद्वार में सेतु निगम के पुल निर्माण में मजदूरी के लिए गए थे। अचानक लाक डाउन होने से यह सभी मजदूर वही फस गए। उन्होंने अपने परिजनों को एक वीडियो जारी कर बताया कि अभी तक तो उनका ठेकेदार राशन पानी की व्यवस्था कर रहा था। लेकिन अब दो दिन से उसने खाने पीने की कोई व्यवस्था नहीं की है। न ही रुपया मिल रहा है। इससे वह सभी लोग भूखे प्यासे फंसे हुए हैं। यह सब एक टीनशैड वाले कमरे में रुके हैं। चंदिया हजारा के पूर्व प्रधान कुमुद रंजन राय ने इन सभी को वापस लाए जाने के लिए डीएम और एसडीएम को पत्र दिया है। उनसे इस संबंध में व्यवस्था कराने की बात भी की।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Chandia Hazara 39 s laborers went to Haridwar to build the bridge