DA Image
28 जनवरी, 2021|2:21|IST

अगली स्टोरी

बौद्ध महासभा के पदाधिकारियों ने सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा ज्ञापन

बौद्ध महासभा के पदाधिकारियों ने सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा ज्ञापन

समाज में व्याप्त गैर बराबरी भेदभाव को समाप्त किए जाने समेत कई मांगों को लेकर राष्ट्रीय बौद्ध महासभा के पदाधिकारियों ने सिटी मजिस्ट्रेट से मुलाकात की। राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन सौंपा गया। राष्ट्रीय बौद्ध महासभा के जिला संयोजक नत्थूलाल बौद्ध आचार्य के नेतृत्व में पदाधिकारियों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर पांच सूत्रीय ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट अरुण कुमार सिंह को सौंपा।

ज्ञापन में कहा गया है कि 24 सितंबर 1932 को पूना की यरवदा जेल में डॉ.भीमराव आंबेडकर व महात्मा गांधी के बीच कम्युनल अवार्ड के संबंध में एक समझौता हुआ था। समझौते के अनुसार दस सालों में अारक्षित वर्गों की सामाजिक, आर्थिक, शैक्षिक व राजनैतिक स्तर पर समता, स्वतंत्रता, समाज में सामाजिक न्याय में व्याप्त गैर बराबरी भेदभाव को समाप्त किया था। अभी तक समाप्त नहीं हुआ है। प्राचीन साकेत नगरी को विश्व बौद्ध स्थल घोषित किया जाए। इससे देश की साख विदेशों में मजबूत होगी। नौजवान व बेरोजगार युवाओं के भविष्य को देखते हुए निजीकरण बंद किया जाए। विशेष अभियान चलाकर भर्ती की जानी चाहिए। मतपत्र से मतदान की प्रक्रिया को शुरू किया जाए। एक समान पाठयक्रम लागू हो। ज्ञापन सौंपने वालों में रामपाल, राजेंद्र कुमार, विपिन नीरज, लालकरन, किशनलाल, रामसनेही गौतम, संजीव गौतम, अशोक मित्रा, रमेश कुमार आदि शामिल रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Buddhist General Assembly officials submitted memorandum to City Magistrate