DA Image
24 नवंबर, 2020|5:28|IST

अगली स्टोरी

बरेली के लिए भी संजीवनी बनेगा पीलीभीत में बना काढ़ा, जानिए किस तरह होगा तैयार 

bareilly ke liye bhi sanjeevani banega pilibhit me bana kadha

सूबे की चंद खास फार्मेसियों में शुमार ललित हरि राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज परिसर की फार्मेसी फिर चर्चा में हैं। आयुष मंत्रालय की नजर से यहां तैयार आयुष काढ़ा और अमृतादि क्वाथ जिले समेत बरेली के लिए भी संजीवनी बनेगा। इसके निर्माण के लिए केंद्र सरकार ने कुछ वटी और राज्य सरकार की तरफ से पांच लाख की धनराशि मुहैया कराई गई है। आयुर्वेद की पहल के बाद वायरस संबंधी संक्रामक रोगों पर यह काफी कारगर माना जाता है। आयुष काढ़ा और अमृतादि क्वाथ लोगों में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है। इसका वितरण क्वारंटीन सेंटर और कंटेनमेंट जोन में कराने की तैयारी है।

दुनिया में फैली महामारी कोरोना के चलते चिकित्सा जगत भी हैरान और परेशान है। निरंतर ही रिसर्च हो रहीं हैं लगातार इनका दायरा बढ़ाया जा रहा है। ताकि कुछ नई वैक्सीन सामने आ सके। कमोबेश अब तक ऐसा नहीं हो सका है। अनलॉक टू के बाद अब कोरोना संक्रामक रोग बढ़ा है। निरंतर वायरस से पीड़ित मरीजों की संख्या में बढोत्तरी हुई है। ऐसे में आयुष मंत्रालय ने आयुर्वेदिक कॉलेज को आयुष 64, संशमनीवटी,अगस्त्यहरितकी, अणुपहल मुहैया करा दी है।

वहीं राज्य सरकार ने पांच लाख के बजट के साथ कालीमिर्च, दालचीनी, तुलसी जैसी वटी के साथ काढ़ा आदि बनाने को कहा है। इससे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के प्रयास हैं। डॉ.हरीशंकर मिश्रा ने बताया कि देर सबेर यह पहल कारगर साबित होने की पूरी उम्मीद की जा रही है। यही वजह है कि आयुष काढ़ा और अमृतादि क्वाथ आयुर्वेदिक कॉलेज परिसर में बनाया जा रहा है। इसे संक्रमित मरीजों को वितरित किया जाएगा।

कंटेनमेंट एरिया और क्वारंटीन सेंटर में भी यह दिया जाएगा। ताकि मरीजों के स्वस्थ होने का प्रतिशत और भी बढ़िया हो सके। प्राचार्य डॉ. आरके तिवारी ने बताया कि आयुष काढ़ा और क्वाथ मरीजों को वितरित किया जाएगा। इसकी पैकिंग की तैयारियां चल रही हैं। अगले सप्ताह में कंटेनमेंट एरिया और कवारंटीन सेंटर में भर्ती मरीजों को आयुष का और अमृता का वितरण किया जाएगा। इससे मरीजों को शरीर प्रतिरोध वर्धक क्षमता बढ़ेगी।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:bareilly ke liye bhi sanjeevani banega pilibhit me bana kadha