DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बैंक बंद कर सड़क पर निकले बैंक कर्मी

बैंक बंद कर सड़क पर निकले बैंक कर्मी

वेतन समझौते को लागू करवाने सहित अपनी अन्य मांगों को लेकर यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियन के देशव्यापी हड़ताल का जिले के बैंक कर्मियों ने भी समर्थन किया। हड़ताल के लिए सभी राष्ट्रीयकृत बैंक शाखाओं के कर्मचारी बुधवार को एकजुट हुए और उन्होंने सरकार पर मनमानी करने का आरोप लगाते हुए प्रदर्शन किया।

हड़ताली बैंक कर्मियों के समर्थन मांगने पर प्राइवेट बैंक कर्मियों ने भी अपने बैंक बंद रखे। हड़ताल के चलते बैंकों में तालाबंदी होने से करोड़ों का लेन-देन प्रभावित रहा।बैंक कर्मियों के संगठन यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियन की सरकार से वार्ता विफल होने के बाद दो संगठन ने दिन के देशव्यापी हड़ताल की घोषणा की थी। इस घोषणा पर ही बुधवार को जिले में सभी राष्ट्रीयकृत बैंकों के कर्मचारी हड़ताल पर रहे।

हड़ताल के लिय कर्मचारी संगठन के जिला संयोजक शैलेन्द्र गुप्ता के नेतृत्व में नौगवां चौराहे पर एसबीआई की मुख्य शाखा पर इकट्ठा हुए। यहां कर्मचारियों की सभा हुई। इसमें शैलेन्द्र गुप्ता ने अपने संबोधन में सरकार के ढुलमुल रवैये पर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि सरकार उनकी मांगों को गंभीरता से नहीं ले रही है। यही वजह है कि वह वार्ता लेकर कभी भी गंभीर नहीं रही।

यहां बैंक आपीसर्स एसोसिएशन के क्षेत्रीय सचिव अशोक कुमार शर्मा ने कहा कि सरकार को वेतन समझोता और सेवा शर्तों में सुधार के लिए हर हाल में समझोता करना होगा। एसबीआई की मुख्य शाखा में सभा कर बैंक कर्मी जुलूस लेकर कैनरा बैंक पहुंचे। यहां जिलाध्यक्ष मनोज कुमार दिवाकर ने अपने साथियों को संबोधित किया। यहां से बैंक कर्मियों का जुलूस इंडियन बैंक, बैंक आफ बड़ौदा पहुंचा। यहां पुष्पेन्द्र, मोहित और विपिन मिश्रा ने अपने साथियों को संबोधित किया।

इसके बाद जगह- जगह हुई बैंक कर्मियों की सभा को कर्मचारी नेता सौरभ गंगवार, कैलाश वर्मा,राम कुमार वर्मा, एनसीबीई के रिजनल सेक्रेट्री सतीश चन्द्र आदि ने संबोधित किया। हड़ताल में विभन्न बैंकों से कर्मचारी रामदास, महेन्द्र रावत,ऋषि देव सिंह, रमा कुमार, रऋकेश किसह, अमित गौड़, प्रेमचन्द्र, पियूष सिंह, विनय कुमार सिंह, वरुण कुमार, विजय कुमार, सुनील कटियार, पंकज सक्सेना, मोहित अग्रवाल, मिथलेश कुमार, अनुभव पांडेय, आकाश राय, राहुल शर्मा, अयाज अंसारी, मोहम्मद शादाब, मोहम्मद इमरान, पुनीत गोस्वामी, गगन अवस्थी, दीपा, आशा, शोभा, ममता सैनी, नितिन, अभिमन्यू, सतेन्द्र, मनमोहन, ब्रजेश, पुनीत, सुरेश सहित बड़ी संख्या में बैंक कर्मी शामिल रहे।

क्लीयरिंग हाउस में पहले दिन ही अटक गए 150 करोड़ के चेक : बैंक कर्मियों की हड़ताल से बुधवार को बैंक के सभी कामकाम ठप हो गए। अकेले जिले की तीन क्लीयरिंग हाउस में ही 150 करोड़ के चेक रुक गए। जिले में शहर के साथ ही पूरनपुर और बीसलपुर में बैंक क्लीयरिं हाउस हैं। इन क्लीयरिंग हाउस में हर रोज करोड़ों के चेक पहुंचते हैं। इसके साथ ही जिले में विभिन्न बैंकों की दो सौ की करीब शाखाएं हैं। इन बैंक शाखाओं में हर रोज करोड़ों का लेन-देन होता है। कर्मचारी नेता शैलेन्द्र गुप्ता ने बताया कि हड़ताल से एक दिन में सैकड़ों करोड़ का लेन-देन प्रभावित हो जाता है।

समर्थन में प्रावेट बैंक भी रहे बंद : सरकारी बैंक कर्मचारियों की हड़ताल के समर्थन में प्राइवेट बैंक भी बुधवार को बंद रहे। शहर में हड़ताल के एकजुट हुए बैंक कर्मी अपने पक्ष में समर्थन जुटाने के लिए प्राइवे बैंकों के पास पहुंचे। सुबह प्राइवेट बैंक खुले थे पर हड़ताली बैंक कर्मियों के पहुंचने से इन बैंक अधिकारियों ने भी अपने बैंकों के शटर गिरा लिए। इसके बाद यह इन बैंकों के शटर दिनभर गिरे रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bank employee turned bank on the road