DA Image
23 नवंबर, 2020|3:17|IST

अगली स्टोरी

आयुष्मान भारत योजना में हो गया फर्जीवाड़ा

default image

पीलीभीत। हिन्दुस्तान संवाद

सरकार गरीबों को पांच लाख रुपसे तक का फ्री इलाज देने के लिए आयुष्मान भारत योजना के कार्ड जारी करने पर जोर दे रही है। इधर जो लोग पात्र नहीं है वह कार्ड पाने के लिए चक्कर काट रहे है तो वहीं जिले के कुछ गांव ऐसे है जहां पर पात्रों के नाम पर कार्ड दर्ज हैं, लेकिन वह खोजने के बाद भी नहीं मिल पा रहे हैं। ऐसे में उनको योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा तो शासन रिपोर्ट मिलने के बाद सेहत विभाग के अधिकारियों को पड़ताल के लिए कड़े आदेश दे रहा है। शासन से आदेश मिलने के बाद आशा, एएनएम और आंगनवाड़ी से सर्वे कराया गया तो जिले में 88 गांव सामने आए जहां पर लोगों के कार्ड जारी होने थे। टीम जब गांव गई तो वहां पर पात्र ही नहीं मिले। इन लोगों की रिपोर्ट बनाकर शासन को भेजी गई है।

करीब दो साल पहले प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना शुरू की गई थी। योजना का मकसद था कि पात्र लोगों को गंभीर बीमारी होने पर पांच लाख रुपए का फ्री इलाज किया जाएगा। इसके लिए जिले को 1 लाख 73 हजार परिवारों का कार्ड जारी करने का लक्ष्य दिया गया था। इधर योजना को लेकर वर्ष 2011 में हुए सर्वे के आधार पर पात्रों को चुना गया था। इस सर्वे में आए गरीबों को ही योजना में शामिल किया गया। शासन ने जब योजना की समीक्षा की तो जिस जिले में काम ठीक नहीं था वहां पर योजना के तहत अधिक से अधिक लोगों के और छूटे लोगों को तलाश कर कार्ड जारी करने के लिए कहा था। शासन से मिले निर्देशों पर जब जिले में इसकी आशा, आंगनवाडी और एएनएम से जांच कराई गई तो सभी के होश उड़ गए थे। जिले के 88 गांव ऐसे पाए गए जहां पर पात्रों के नाम तो सूची पर थे लेकिन गांव में मिला कोई नहीं। जानकारी करने पर बताया गया कि वह लोग यहां से कहीं ओर चले गए हैं। आसपास के गांवों में पड़ताल के बाद भी उनका सुराग नहीं लगा तो रिपोर्ट सीएमओ को दी गई। इसके अलावा जांच में 116 गांव ऐस मिले जहां पर एक भी कार्ड जारी नहीं हो सका था। यहां पर 28 गांवों में अभियान चलाकर अभी तक कार्ड जारी किए जा चुके हैं। अब 88 गांवों में पात्रों के न मिलने पर रिपोर्ट शासन को भेजी गई है।

गायब हो चुके लोगों की यह हैं जिले में स्थित

73 पात्र पूरनपुर ब्लाक में

6 पात्र अमरिया ब्लाक में

2 पात्र बीसलपुर में

3 पात्र बिलसंडा में

3 पात्र मरौरी में

1 पात्र ललौरीखेड़ा में

शून्य बैलेंस गांवों की यह है स्थित

14 पात्रों के कार्ड जारी हुए पूरनपुर क्षेत्र में

9 लोगों के अमरिया क्षेत्र में

1 पात्र का कार्ड जारी हुआ बीसलपुर में

1 कार्ड जारी हुआ बिलसंडा क्षेत्र में

2 कार्ड जारी हुए मरौरी क्षेत्र में

1 कार्ड जारी हुआ ललौरीखेड़ा क्षेत्र में

योजना एक नजर में पीलीभीत

88: गांव ऐसे है जहां लोग कार्ड बनाने के लिए तलाश में नहीं मिले

116: गांव ऐसे हैं जहां पर एक भी आयुष्मान कार्ड जारी नहीं हो सका

1.42 लाख: लोगों के कार्ड अभी बनाए जा चुके हैं।

28 गांवों में तलाश के बाद जारी किए गए है लोगों के गोल्डनकार्ड

1.73 लाख परिवार आयुष्मान भारत योजना में हुए हैं शामिल

8.64 लाख लाभार्थिंयों की संख्या है जिले में आयुष्मान भारत योजना के

10 हजार लोगों को अभी तक मिल चुका है योजना के तहत फ्री इलाज

जिले में अभी तक खोजबीन के बाद 88 गांव ऐसे सामने आए है जहां पात्र तलाश करने के बाद नहीं मिले है। यह गांव ऐसे थे जहां लोग झोपड़ी डालकर रहते थे। इसके अलावा शून्य बैलेंस 116 गांवों में अभियान चलाकर कार्ड जारी किए जा रहे हैं। इसकी रिपोर्ट सीएमओ को दी गई है।

डा. अटलमणि शुक्ला, जिला समन्ययक

आयुष्मान भारत योजना

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ayushman Bharat scheme fraudulent