DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बाढ़ग्रस्त गांवों में घटने लगा पानी, रेता वासियों ने ली राहत की सांस
पडरौना

बाढ़ग्रस्त गांवों में घटने लगा पानी, रेता वासियों ने ली राहत की सांस

हिन्दुस्तान टीम,पडरौनाPublished By: Newswrap
Wed, 01 Sep 2021 04:41 AM
बाढ़ग्रस्त गांवों में घटने लगा पानी, रेता वासियों ने ली राहत की सांस

खड्डा। हिन्दुस्तान संवाद

सीमावर्ती नेपाल की पहाड़ियों पर बारिश थमने के बाद वाल्मीकि गण्डक बैराज पर नदी के डिस्चार्ज में गिरावट होने लगी है। मंगलवार की सुबह नदी का डिस्चार्ज 3 लाख 50 हजार से घटकर 2 लाख 96 हजार क्यूसेक पर आ गया। इससे बड़ी गण्डक नदी का जलस्तर समान्य होने लगा है। इससे बाढ़ग्रस्त गांवों के लोगों ने राहत की सांस ली है। मगर नीचले इलाकों में रहने वाले लोगों के घरों में पानी अभी भी बरकरार है, जिससे उनकी दुश्ववारियां कम नहीं हुई हैं।

नेपाल के पोखरा जल अधिग्रहण क्षेत्र में मूसलाधार बारिश होने के चलते तीन दिनों से वाल्मीकि गण्डक नदी का डिस्चार्ज बढ रहा है। पांच दिन पूर्व बैराज से 4 लाख 4 हजार क्यूसेक पानी नदी में डिस्चार्ज करने से नदी के जलस्तर में यकायक वृद्धि हुई। इससे नदी का पानी रेता क्षेत्र के मरिचहवा, बसंतपुर, नारायनपुर, शाहपुर, महदेवा, विन्ध्याचलपुर, सालिकपुर सहित आदि गांवों में पहुंच गया था, जिससे अधिकांश लोगों को बाढ़ राहत शिविर में शरण लेना पड़ा। वहीं कुछ लोगों को परिवार के साथ मचान, ट्राली पर शरण लेना पड़ा। रेता क्षेत्र में आई बाढ़ से लगभग 25 हजार लोग प्रभावित हुए। इन बाढ़ पीड़ितों के लिए एसडीएम अरविन्द कुमार, तहसीलदार कृष्ण गोपाल त्रिपाठी व नायब तहसीलदार रवि यादव सहित अन्य अधिकारी मदद के लिए आगे आये। मौजूदा समय में महदेवा गांव के समीप कटान स्थल पर पानी के साथ शिल्ट आने से कुछ हद तक कटान बन्द है। छितौनी बांध के भैंसहा गेज पर नदी का जलस्तर चेतावनी बिन्दु 95 के सापेक्ष 90 सेमी उपर है, जिससे छितौनी बांध के संवेदनशील प्वाइंटों पर अभी भी दबाव है।

चार जगहों पर चल रहा कम्युनिटी किचन

बाढ़ग्रस्त रेता क्षेत्र में चार जगहों पर कम्युनिटी किचन चल रहा है, जिसमें बाढ़ पीड़ित भोजन कर रहे हैं। मंगलवार को एसडीएम अरविंद कुमार ने एसओ खड्डा आरके यादव के साथ सालिकपुर के समीप बने बाढ़ राहत शिविर में शरण लिए बाढ़ पीडितों का हाल जाना और अपने मातहतों को निर्देश दिया कि बाढ़ पीड़ितों को किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए। एसडीएम ने गांव के चारो तरफ लगे पानी के चलते भूखे रह रहे पशुओं के चारा भूसा का भी इंतजाम करने का निर्देश दिया।

संबंधित खबरें