ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशशौचालय निर्माण में घोटाला, पूर्व ग्राम प्रधान से होगी 60 हजार की वसूली

शौचालय निर्माण में घोटाला, पूर्व ग्राम प्रधान से होगी 60 हजार की वसूली

पडरौना, निज संवाददाता। नेबुआ नौरगिया ब्लॉक के ग्राम पंचायत चकचिन्तामणि में...

शौचालय निर्माण में घोटाला, पूर्व ग्राम प्रधान से होगी 60 हजार की वसूली
हिन्दुस्तान टीम,पडरौनाWed, 28 Feb 2024 01:45 AM
ऐप पर पढ़ें

पडरौना, निज संवाददाता।
नेबुआ नौरगिया ब्लॉक के ग्राम पंचायत चकचिन्तामणि में दस व्यक्तिगत शौचालय का निर्माण कराए गए बगैर 1.20 लाख रुपये निकाल लिए गए थे। डीपीआरओ द्वारा गठित टीम की जांच में यह स्पष्ट हो गया है। इस आधार पर डीपीआरओ ने पूर्व प्रधान से हड़पी गयी सरकारी रकम का आधा हिस्सा यानि 60 हजार रुपये सरकारी खाते में जमा करने का आदेश पारित किया है। इसलिए लिए उन्हें 15 दिन यानि एक पक्ष की मोहलत दी गयी है।

नेबुआ नौरगिया ब्लॉक के ग्राम पंचायत चकचिन्तामणि निवासी छट्ठू, हरिन्द्र कुशवाहा, राजेश कुमार आदि ने डीएम को शिकायती पत्र देकर गांव में बने शौचालयों की जांच कराने की मांग की थी। डीएम के निर्देश पर डीपीआरओ ने इसकी जांच के लिये 17 मई 2023 से सहायक निदेशक मत्स्य व अवर अभियन्ता ग्रामीण अभियन्त्रण ब्लॉक नेबुआ नौरगिया को जांच अधिकारी नामित किया था। जांच आख्या के अनुसार 10 लाभार्थियों का शौचालय निर्माण नहीं कराया गया था। पूर्व प्रधान इन्द्रावती देवी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया। उस समय गांव में कार्यरत सचिव मधुरेन्द्र श्रीवास्तव की मृत्यु हो चुकी है। इसक क्रम में इन्द्रावती देवी तत्कालीन ग्राम प्रधान ने अपना स्पष्टीकरण 25 अगस्त 2023 को प्रस्तुत किया। इसमें उनके द्वारा उल्लेख किया गया कि बैजनाथ, गोखुल व गेनिया का शौचालय वर्तमान में चालू है। शेष 7 शौचालय लाभार्थियों ने खुद तोड़ दिया है। स्पष्टीकरण के परीक्षण के दौरान मालूम हुआ कि शिकायतकर्ताओं के शौचालय ही नहीं थे। तत्कालीन ग्राम प्रधान द्वारा प्रस्तुत स्पष्टीकरण संतोषजनक नहीं है।

स्पष्ट है कि कुल 10 लाभार्थियों के व्यक्तिगत शौचालय का निर्माण नहीं कराया गया है, जबकि उस मद में धनराशि आहरित कर ली गयी है। तत्कालीन ग्राम प्रधान इन्द्रावती को अपना पक्ष प्रस्तुत करने का पर्याप्त अवसर दिया गया। इस प्रकार कुल 10 शौचालयों के लिये 12 हजार रुपये प्रति शौचालय की दर से कुल 1 लाख 20 हजार रूपये का दुरुपयोग किया गया है। दुरूपयोग की गई धनराशि का आधा भाग 60 हजार रुपये तत्कालीन ग्राम प्रधान इन्द्रावती देवी से वसूल करने के लिये डीपीआरओ आलोक कुमार प्रियदर्शी ने आदेशित किया है। उन्होंने इस धनराशि को विकास खण्ड नेबुआ नौरगिया के ग्राम निधि खाते में जमा कर जमा कर उसकी रसीद जिला पंचायत राज अधिकारी के समक्ष एक पक्ष के अन्दर प्रस्तुत करने के लिये आदेशित किया है। इसकी रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भी भेज दी है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें