DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › युवती का गला रेतने के बाद फेंकने के दोनों आरोपी गिरफ्तार
पडरौना

युवती का गला रेतने के बाद फेंकने के दोनों आरोपी गिरफ्तार

हिन्दुस्तान टीम,पडरौनाPublished By: Newswrap
Sat, 31 Jul 2021 04:20 AM
युवती का गला रेतने के बाद फेंकने के दोनों आरोपी गिरफ्तार

कुशीनगर। वरिष्ठ संवाददाता

प्रेमिका को जान से मारने के लिए सद्दाम व उसके साले ने कोई कोर कसर नहीं छोड़ी थी। साथ लेकर जटहा बाजार क्षेत्र के सरेह में ले गए थे। सुनसान जगह दुपट्टे से उसका गला कस दिया। बेहोश हो गयी तो चाकू गला रेत दिया और मरा समझ कर फेंक कर भाग गए थे। मगर ईश्वर ने उसे बचा लिया। आरोपी सद्दाम व उसके साले को पुलिस ने घटना के तीसरे दिन दबोच लिया है। उनके कब्जे से घटना में प्रयुक्त चाकू भी बरामद कर लिया गया है।

सीओ संदीप वर्मा ने जटहा थाने में गिरफ्तार आरोपियों को मीडिया के समक्ष पेश किया और बताया कि 27 जुलाई को सुबह जटहा बाजार थाना क्षेत्र में पखनहा गांव के निकट चौराहे के समीप रेहना नामक युवती खून से लतपथ मिली थी। उसका गला रेता गया था। मौके पर पहुंचे जटहा एसओ नंदा प्रसाद ने होश में आने के बाद उसका बयान लिया जिसमें उसने बताया कि सद्दाम सिद्दीकी नामक उसके प्रेमी ने दूसरी महिला से शादी कर ली है और उसका गला रेत कर मरा समझ यहां सरेह में फेंककर भाग गया। एसओ ने उसे इलाज के लिए अस्पताल भेजवाया।

खड्डा पुलिस की मदद से आरोपियों की तलाश में जुट गए। शुक्रवार को पखनहा गांव के पास दो सद्दाम व उसके साले अजीज पुत्र कमरूद्दीन निवासी मुन्डेरा थाना हनुमानगंज को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि इंदिरानगर मोहल्ला निवासी सद्दाम सिद्दीकी की शादी 8-9 वर्ष पूर्व हनुमानगंज थाना क्षेत्र के मुण्डेरा निवासी जरीना से हुई थी। उससे दो बच्चे हैं। इधर करीब 02 वर्ष से रेहाना पुत्री मैनुद्दीन अंसारी निवासी पिपरपाती थाना निचलौल जनपद महाराजगंज के सम्पर्क में आ गया और अपने परिवार से चोरी छिपे, विरोध होने के डर से रेहाना को लेकर अभियुक्त सद्दाम उपरोक्त इधर -उधर रहने लगा। सद्दाम के परिवार वालों को जानकारी होने पर परिवार के लोग विरोध करने लगे। जिससे परेशान होकर अपने साले अजीज को साथ लेकर रेहाना को खत्म करने के लिए 26 जुलाई की रात सुगौली पखनहा नहर पटरी के पास सुनसान जगह पर ले गया। सरेह में अजीज के सहयोग से रेहाना के दुपट्टे से गला कसकर बेहोश कर दिया। इसके बाद चाकू से हत्या करने की नियत से गला रेत दिया और मरा समझ कर फेंककर भाग गये। सीओ ने बताया कि आरोपियों ने अपनी ओर से उसे मार डालने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी थी मगर वह बच गयी। त्वरित खुलासे के लिए एसपी सचिन्द्र पटेल व एएसपी एपी सिंह ने जटहा पुलिस टीम को शाबाशी दी है। खुलासा करने वाली टीम में दरोगा रनवीर सिंह, हेड कांस्टेबल महेन्द्र यादव, सिपाही उपेन्द्र यादव, प्रेमनरायन यादव व राकेश कुमार शामिल रहे।

संबंधित खबरें