ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशसाहित्य सर्जना से सकारात्मक बदलाव होता है

साहित्य सर्जना से सकारात्मक बदलाव होता है

कुशीनगर। कुशीनगर स्थित एक निजी होटल के सभागार में शुक्रवार को पुस्तक विमोचन

साहित्य सर्जना से सकारात्मक बदलाव होता है
हिन्दुस्तान टीम,पडरौनाSat, 18 Nov 2023 07:44 AM
ऐप पर पढ़ें

कुशीनगर। कुशीनगर स्थित एक निजी होटल के सभागार में शुक्रवार को पुस्तक विमोचन समारोह का आयोजन हुआ। इसमें मुरली धर मिश्र द्वारा लिखित त्र्यंबकेश्व व गंगा से हिंद महासागर, दो पुस्तकों का विमोचन किया गया।

पुस्तक विमोचन समारोह का शुभारंभ मुख्य अतिथि सिसवा कुटी के महंत शिवशरण दास ने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्ज्वलन कर किया। पुस्तक विमोचन कार्यक्रम को पूर्व विधायक रजनीकांत मणि त्रिपाठी ने संबोधित करते हुए कहा कि साहित्य सर्जना से सकारात्मक बदलाव होता है। समाज व देश काल में घटित घटनाओं को साहित्य में लिपिबद्ध कर सहेजा जाता है। इसलिए पुस्तकों की रचनाएं पुनीत कार्य है। मुरलीधर मिश्र ने कहा कि कुशीनगर की भूमि उत्तरी देवारण्य व देवरिया दक्षिणी देवारण्य है। यह इलाका जल, जंगल, जमीन, जीव से समृद्ध है। उन्होंने काशी में कण-कण में शंकर है। कुशीनगर में कण-कण में काशी है। कहा कि पुस्तक में अपनी धार्मिक यात्राओं सहित वहां की सभ्यता व संस्कृति आदि पर भी तथ्यात्मक व वर्णनात्मक उल्लेख किया गया है।

संचालन राजस्व निरीक्षक ब्रजेश मणि त्रिपाठी ने किया। अंत में लेखक मुरली धर मिश्र ने आगंतुकों के प्रति आभार ज्ञापित किया। बताते चले की उक्त पुस्तक के लेखक कसया में एडीएम रह चुके है। वर्तमान समय में सेवानिवृत्त होकर वाराणसी में रहते है। उन्होंने पुस्तक विमोचन के लिए अपनी कर्म भूमि कुशीनगर को चुनना बेहतर समझा। इस मौके पर उर्मिला मिश्र, सत्येंद्र मिश्र, अधिवक्ता वीरेंद्र शुक्ल, लामा कोंचोक, राजस्व निरीक्षक हरिशंकर सिंह, निलेश रंजन राव, अरविंद पति त्रिपाठी, डा.शैलेद्र दूबे, अनुपम पाठक, अनिल मल्ल, विजय शर्मा, विकास आदि मौजूद रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें