ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशबोर्ड परीक्षा में 20 चिकित्सकों को बनाया स्टेटक मजिस्ट्रेट, अस्पताल प्रभावित

बोर्ड परीक्षा में 20 चिकित्सकों को बनाया स्टेटक मजिस्ट्रेट, अस्पताल प्रभावित

पडरौना, निज संवाददाता। जनपद के 150 परीक्षा केंद्रों पर हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा पिछले 22 फरवरी से चल रही है, जो आगामी 9 मार्च तक...

बोर्ड परीक्षा में 20 चिकित्सकों को बनाया स्टेटक मजिस्ट्रेट, अस्पताल प्रभावित
हिन्दुस्तान टीम,पडरौनाMon, 26 Feb 2024 01:45 AM
ऐप पर पढ़ें

पडरौना, निज संवाददाता।
जनपद के 150 परीक्षा केंद्रों पर हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा पिछले 22 फरवरी से चल रही है, जो आगामी 9 मार्च तक चलेगी। बोर्ड परीक्षा को सुचिता व शांतिपूर्ण तरीके से कराने के लिए प्रत्येक केंद्र पर केंद्र व्यवस्थापक, वाह्य केंद्र व्यवस्थापक के साथ एक-एक स्ट्रेटिक मजिस्ट्रेट की तैनाती की गई। पहली बार बोर्ड परीक्षा में 20 चिकित्सकों को स्ट्रेटिक मजिस्ट्रेट बनाया गया है। इसमें आठ आयुर्वेद, आठ होम्योपैथिक व चार पशु चिकित्सक शामिल हैं। आयुर्वेदिक व होम्योपैथिक चिकित्सकों की ड्यूटी लगाने से इनसे संबंधित अस्पतालों में मरीजों का इलाज प्रभावित है। वहीं शासन स्तर से इन चिकित्सकों को प्रतिदिन 50-50 नये मरीजों को देखने का निर्देश प्राप्त हैं। ऐसे में परीक्षा के दौरान उनके अस्पताल प्रभावित हैं। इसे लेकर चिकित्सकों में आक्रोश व्याप्त है।

माध्यमिक शिक्षा परिषद की तरफ से जिले में कुल 361 विद्यालय संचालित होते हैं। इसमें 22 राजकीय, 55 वित्तपोषित और 284 स्ववित्तपोषित माध्यमिक विद्यालय संचालित हैं। इन माध्यमिक विद्यालयों में वर्ष 2024 की बोर्ड परीक्षा के लिए कुल 112760 छात्र-छात्राएं पंजीकृत हैं, जिसमें हाईस्कूल में 61496 और इंटर के 51264 परीक्षार्थी शामिल हैं। जिले में कुल 150 परीक्षा केंद्रों पर दो पालियों में बोर्ड परीक्षा पिछले 22 फरवरी से शुरू होकर आगामी 9 मार्च तक चलेगी। परीक्षा को सकुशल संपन्न कराने के लिए प्रत्येक केंद्र पर केंद्र व्यवस्थापक, वाह्य केंद्र व्यवस्थापक, स्ट्रेटिक मजिस्ट्रेट को तैनात किया गया है। इसके अतिरिक्त निगरानी के लिए तीन सुपर जोनल, छह जोनल, 29 सेक्टर मजिस्ट्रेट व आधा दर्जन सचल दल का गठन किया गया है। इसके पहले स्ट्रेटिक मजिस्ट्रेट में ड्यूटी सेक्रेट्री व लेखपाल के अलावा अन्य अधिकारियों को लगायी जाती थी। इस बार इन्हें मुक्त कर जेई, प्रवक्ता, चिकित्सक समेत अन्य कर्मचारियों को लगाई गई है। जिले के 20 चिकित्सकों की ड्यूटी बोर्ड परीक्षा में लगने के कारण अस्पताल प्रभावित हैं। प्रतिदिन मरीज अस्पताल से बैरंग वापस लौट रहे हैं।

इनकी यहां लगी ड्यूटी

डॉ. सुनील कुमार चौधरी-चिकिक्साधिकारी राजकीय होम्योपैथिक नेबुआ नौरंगिया का जनता इंटर कॉलेज कोटवा कला कुशीनगर,

डॉ. साहब यादव - राजकीय आयुर्वेदिक चिकित्साधिकारी सकरौली का दुर्गा उच्चतर माध्यमिक विद्यालय खोटहीं, डॉ. सत्यप्रकाश मिश्रा - चिकित्साधिकारी राजकीय आयुर्वेदिक होरलपुर का विद्या विकास उच्चतर माध्यमिक विद्यालय लक्ष्मीगंज, डॉ. सचिन अग्रवाल -चिकित्साधिकारी राजकीय आयुर्वेदिक सोहंग का जनता इंटर कालेज सोहंग, डॉ. देवेंद्र कुमार यादव -चिकित्साधिकारी राजकीय होम्योपैथिक का कृषक इंटर कॉलेज मल्लूडीह, डॉ. श्यामबिहारी -चिकित्साधिकारी राजकीय आयुर्वेदिक सिंदुआ बांगर का मैना देवी इंटर कालेज रामकोला, डॉ. रणधीर कुमार यादव -चिकित्साधिकारी राजकीय आयुर्वेदिक मथौली का किसान इंटर कॉलेज बेलवा, डॉ. मनोज कुमार मौर्या चिकित्साधिकारी राजकीय होम्योपैथिक मथौली बाजार का किसान इंटर कालेज कुशीनगर, डॉ. जयप्रकाश गुप्ता - चिकित्साधिकारी राजकीय होम्योपैथिक फ़ाज़िलनागर का भगवानपुर कोटवा के अलावा डॉ. सत्यप्रकाश राय - चिकित्साधिकारी राजकीय होम्योपैथिक का बाबा विकास सीनियर इंटर कालेज विशुनपुरा, डॉ. समरेंद्र प्रताप सिंह -चिकित्साधिकारी राजकीय होम्योपैथिक का किसान इंटर कॉलेज पिपरा बाजार, डॉ. सौरभ गुप्ता -चिकित्साधिकारी राजकीय होम्योपैथिक कुबेरस्थान का लक्ष्मीबाई इंटर कॉलेज पडरौना, डॉ. नितेश कुमार श्रीवास्तव - चिकित्साधिकारी राजकीय आयुर्वेदिक कुबेरस्थान का रामायन इंटर कॉलेज कठकुइयां, डॉ. समीर कुमार गुप्ता - चिकित्साधिकारी राजकीय आयुर्वेदिक पिपरपाती का लाची देवी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय जटहा बाजार, डॉ. संदीप गुप्ता -चिकित्साधिकारी राजकीय होम्योपैथिक पटहेरवा का लोकनायक इंटर कॉलेज गौरीनगर, डॉ. जयप्रकाश यादव -चिकित्साधिकारी राजकीय आयुर्वेदिक जंगल लुअठहा का साधुशरण इंटर कॉलेज तथा डॉ. लालमणि यादव उप मुख्य पशुचिकित्साधिकारी तमकुही का नरेन्द्र कुमार इंटर कॉलेज गौरीजगदीश, डॉ. शेषनाथ सिंह - उप मुख्य पशुचिकित्साधिकारी विशुनपुरा का जनकराजी इंटर कॉलेज मठिया प्रसिद्ध तिवारी, डॉ. राजीव कुमार उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी हाटा का गांधी स्मारक इंटर कॉलेज हाटा, डॉ. विनय कुमार सिंह - पशुचिकित्साधिकारी मोतीचक का सरस्वती विद्या मंदिर कप्तानगंज में तैनाती है।

-----

बोर्ड परीक्षा के लिए एक माह तक चिकित्सालय बंद करना जनहित में उचित नहीं है। इससे मरीजों को असुविधा होती है तथा बाद में मरीज चिकित्सालय आना ही छोड़ देते हैं। मरीजों की संख्या कम होने पर चिकित्साधिकारियों को पदोन्नति आदि प्राप्त करने में असुविधा होती है। जिला स्तर के अधिकारियों को पटल लिपिक द्वारा गलत सूचना देकर इस तरह की असंवेदनशील, जनहित के विरुद्ध ड्यूटी लगायी गई है। निदेशक, प्रमुख सचिव एवं उच्च न्यायालय समय-समय पर आयुष चिकित्साधिकारियों को इस तरह की ड्यूटी से मुक़्त रखने के आदेश जारी कर चुके हैं।

डॉ. सत्य प्रकाश राय, सचिव, प्रांतीय होम्योपैथिक चिकित्सा सेवा संघ उत्तर प्रदेश

------

चिकित्साधिकारियों की ड्यूटी डीएम कार्यालय से लगी है। वहीं पर ड्यूटी लगाने व हटाने का अधिकार प्राप्त है। वहां से पत्र मिलने पर ड्यूटी से डॉक्टरों को मुक्त कर दिया जायेगा।

रवींद्र कुमार सिंह, डीआईओएस कुशीनगर

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें